नई दिल्ली. दिल्ली के खिलाफ कोलकाता ने 71 रन से बड़ी जीत दर्ज की. इस जीत में केकेआर के गेंदबाजों की भूमिका अहम रही, जिन्होंने अपनी टीम को रेग्यूलर इंटरवल पर विकेट निकाल कर दिया, जिससे दिल्ली पर हार का खतरा लगातार मंडराता रहा. लेकिन, कोलकाता की तरफ से जिस एक गेंदबाज ने सबसे ज्यादा प्रभावित किया वो रहे सुनील नरेन. कैरेबियाई स्पिनर सुनील नरेन कोलकाता की गेंदबाजी लाइन अप की रीढ़ हैं और वो क्यों हैं उसे जरा इन आंकड़ों से समझिए. नरेन ने दिल्ली के खिलाफ मैच में 6 की इकॉनोमी से 3 ओवर में 18 रन दिए और 3 विकेट चटकाए. अपने इस प्रदर्शन के बूते नरेन ने ना सिर्फ टीम की जीत की नींव रखी बल्कि खुद के IPL करियर में एक माइलस्टोन को भी हासिल किया. वो अब IPL में 100 विकेट लेने वाले गेंदबाजों के क्लब में शामिल हो गए हैं.

मॉरिस बने 100वां शिकार

कोलकाता के फिरकीबाज नरेन ने दिल्ली के बल्लेबाज क्रिस मॉरिस के तौर पर मुकाबले में अपना पहला शिकार किया, जो कि उनके IPL करियर का 100वां विकेट भी साबित हुआ. इसके बाद नरेन ने दिल्ली के खिलाफ मैच में विजय शंकर और शमी के तौर पर 2 और विकेट भी लिए , जिसके बाद उनके IPL विकेटों की कुल संख्या 102 हो गई.

मलिंगा और भज्जी के बाद नरेन

IPL में नरेन 100 विकेट चटकाने वाले तीसरे गेंदबाज हैं. उनसे पहले मलिंगा और हरभजन इस कामयाबी को हासिल कर चुके हैं. IPL में मलिंगा के नाम 154 विकेट दर्ज हैं तो हरभजन सिंह के खाते में 127 विकेट हैं.

100 विकेट का सफर

IPL में सुनील नरेन ने 100 विकेट का सफर कैसे पूरा किया अब जरा वो समझिए. 100 विकेटों में से नरेन ने 68 विकेट दाएं हाथ के बल्लेबाजों के खिलाफ लिए हैं जबकि 32 बार बाएं हाथ के बल्लेबाजों को उन्होंने अपना शिकार बनाया है. नरेन ने राइट हैंडर्स के खिलाफ 19.54 की औसत से जबकि लेफ्ट हैंडर्स के खिलाफ 24.34 की औसत से विकेट निकाले हैं.

पहले इंटरनेशनल स्पिनर

IPL में 100 विकेट की कामयाबी की स्क्रिप्ट लिखने वाले नरेन पहले विदेशी स्पिनर भी हैं जबकि वैसे हरभजन के बाद दूसरे स्पिनर हैं. नरेन ने ये सभी 100 विकेट एक फ्रेंचाईजी यानी कि कोलकाता के लिए खेलते हुए लिए हैं.