नई दिल्ली. तेजस्विनी सावंत जितनी अनुभवी हैं उनका निशाना उतना ही अचूक है. अपने इसी खासियत की बदौलत वो गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स में सिल्वर मेडल जीतने में कामयाब रही हैं. तेजस्विनी ने ये सिल्वर मेडल महिलाओं की 50 मीटर राइफल प्रोन स्पर्धा में जीता हैं. तेजस्विनी ने 618 . 9 के स्कोर के साथ गोल्ड कोस्ट में सिल्वर मेडल को हासिल किया, जो कि कॉमनवेल्थ खेलों में उनके निशाने से भारत को मिला छठा पदक है. तेजस्विनी सिर्फ 2.1 प्वाइंट के मार्जिन से गोल्ड मेडल जीतने से चूक गई. तेजस्विनी की इस शानदार जीत पर इंडियन ओलंपिक एसोशिएशन ने उन्हें ट्वीट कर बधाई दी है.

50 मीटर राइफल प्रोन इवेंट में सिंगापुर की मार्टिना लिंडसे वेलोसो ने गोल्ड मेडल जीता. उन्होंने 621 का स्कोर करते हुए कॉमनवेल्थ खेलों का नया रिकार्ड भी बनाया. स्काटलैंड की सियोनेड मैकिनटोश ने 618 . 1 स्कोर करके ब्रॉन्ज मेडल जीता.

तेजस्विनी ने जीते 6 कॉमनवेल्थ मेडल

कॉमनवेल्थ गेम्स 2006 में 10 मीटर एयर राइफल सिंगल इवेंट में स्वर्ण और अवनीत कौर सिद्धू के साथ डबल्स इवेंट में गोल्ड पदक जीतने वाली तेजस्विनी 2010 वर्ल्ड चैम्पियनशिप में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली भारतीय थी . दिल्ली में 2010 में हुए राष्ट्रमंडल खेलों में तेजस्विनी ने 50 मीटर राइफल प्रोन सिंगल में सिल्वर और मीना कुमारी के साथ डबल्स इवेंट में ब्रॉन्ज मेडल जीता था. इसके अलावा तेजस्विनी ने लज्जा गोस्वामी के साथ 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन में भी सिल्वर मेडल हासिल किया था.

बहरहाल, तेजस्विनी की इस कामयाबी के बाद गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत के कुल पदकों की संख्या 25 हो गई है, जिसमें 5 सिल्वर जीत दर्ज हैं.