लंदन। एशियाई चैंपियन भारत की महिला चार गुणा 400 मीटर रिले टीम को लेन तोड़ने के कारण अयोग्य घोषित किया गया जबकि पुरुष टीम 10वें स्थान पर रहते हुए शनिवार को यहां वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप से बाहर हो गई जिससे इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता में भारत का निराशाजनक प्रदर्शन जारी रहा.

भारतीय महिलाओं की टीम में जिस्ना मैथ्यू, एमआर पूवम्मा, अनिल्डा थॉमस और निर्मला शेरोन शामिल थी जो तीन मिनट 28.62 सेकेंड के समय के साथ अपनी हीट में सातवें स्थान पर रही. लेन तेड़ने के कारण टीम को अयोग्य घोषित कर दिया गया. अगर उन्हें आयोग्य घोषित नहीं भी किया जाता तो भी महिलओं की टीम फाइनल में नहीं पहुंचती. भारत की तरफ से दौड़ की शुरुआत करने वाली जिस्ना 250 मीटर की दूरी तय करने के बाद दूसरे खिलाड़ी की लेन में चली गई जिसके बाद उन्हें आईएएएफ प्रतियोगिता के नियम 163.3(ए) के तहत अयोग्य करार दिया गया.

एशियाई चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतने वाली यह टीम अपनी हीट में सातवें स्थान पर रही और सभी टीमों के बीच कुल 12वें स्थान पर रही. टूर्नामेंट के फाइनल में दोनों हीट की शीर्ष तीन-तीन टीमों के अलवा अगला सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाली दो टीमें शामिल हैं. इस स्पर्धा में अमेरिका, जमैका, ब्रिटेन, नाइजीरिया, जर्मनी, पोलैंड, बोत्सवाना और फ्रांस की टीमों ने क्वॉलिफाई किया है.

पुरुषों की चार गुणा चार सौ रिले टीम स्पर्धा में भी भारतीय टीम अपनी हीट में तीन मिनट 2.80 सेकेंड के समय के साथ पांचवें स्थान और कुल 16 टीमों में दसवें स्थान पर रही. टीम महज एक सेकेंड से भी कम समय से फाइनल में जगह बनाने से चूक गई, फाइनल में क्वॉलिफाई करने वाली आखिरी टीम क्यूबा के धावकों ने तीन मिनट 01.88 सेकेन्ड का समय लिया था.

एशियाई चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतने वाले कुन्हु मुहम्मद, अमोज जैकब, मुहम्मद अनस और राजीव अरोकिया की टीम यहां कोई करिश्मा करने में नाकाम रहीं. रेस के बाद अपने प्रदर्शन पर संतुष्टि जताते हुए अरोकिया ने कहा, ‘यह सत्र का हमारा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है, हम और अच्छा कर सकते थे लेकिन दूसरे धावकों के पीछे दौड़ने के कारण बैटन देने में ज्यादा समय लग गया. एशियाई चैंपियनशिप में हम शुरुआत से बढ़त बनाए हुए थे और वहां बैटन आसानी से दूसरे खिलाड़ी को दे पा रहे थे.

रविवार को होने वाले फाइनल के लिए क्वॉलीफाई करने के मामले में अमेरिका (दो मिनट 59.23 सेकेन्ड), त्रिनिदाद एंड टोबैगो (दो मिनट 59.35 सेकेन्ड) और बेल्जियम (दो मिनट 59.47 सेकेन्ड) शीर्ष तीन टीमें रहीं. इनके अलावा ब्रिटेन, फ्रांस, स्पेन, पोलैंड और क्यूबा ने भी फाइनल में अपनी जगह पक्की की.