जमशेदपुरः झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास ने कहा है कि राज्य सरकार स्कूली छात्राओं के बीच वितरण के लिए सैनिटरी नैपकिन को स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) से खरीदेगी. मुख्यमंत्री ने सोमवार को जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा क्षेत्र के बागुनहातु में एक सैनिटरी नैपकिन उत्पादन केंद्र का निरीक्षण करने के बाद पत्रकारों को यह जानकारी दी.

टाटा स्टील सैनिटरी अपने कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी के तहत नैपकिन बनाने के लिए एसएचजी की महिलाओं को प्रशिक्षण प्रदान कर रहा है. बागुनहातु में इस समय कुल 15 एसएचजी नैपकिन उत्पादन के काम में लगे है. मुख्यमंत्री ने कहा कि इस कदम को उठाए जाने का उद्देश्य स्व-रोजगार को बढ़ावा देना है.

ये भी पढ़ेंः लोगों को पसंद आ रही है ‘पैडमैन’, जानिए तीन दिनों की कमाई

उन्होंने कहा कि ठेकेदारों से सैनिटरी नैपकिन खरीदने के लिए लगभग 25 करोड़ रुपये वार्षिक खर्च किये जा रहे हैं. अब इन्हें स्वयं सहायता समूहों से खरीदा जाएगा. उन्होंने मीडिया से स्थानीय रूप से निर्मित माल को बढ़ावा दिये जाने की अपील की. मुख्यमंत्री ने नैपकिन उत्पादन में लगी महिलाओं की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस कदम से उन परिवारों को फायदा होगा जिनके पास आय के समुचित स्रोत नहीं हैं.