पटना: बिहार में शराबबंदी लागू किए जाने के दो साल पूरे होने के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आरजेडी और तेजस्वी यादव पर जमकर निशाना साधा. नीतीश ने इशारों में बिना नाम लिए तेजस्वी पर निशाना साधते हुए कहा कि वो दिनभर ट्वीट ट्वीट करते रहते हैं लेकिन ज्ञान नहीं है. नीतीश ने कहा कि विपक्ष ने शराबबंदी पर बिहार में बहुत झूठ फैलाया है.

शराबबंदी होने से लाखों लोगों के गिरफ्तार होने के आरोप पर नीतीश ने कहा कि दो सालों के दौरान शराबबंदी का उल्लंघन करने पर सवा लाख लोगों की गिरफ्तारी तो हुए है लेकिन इस समय बिहार की जेलों में सिर्फ 8 हजार लोग ही बंद हैं. उन्होंने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा, “आज अखबार में लोग बयान देते हैं कि शराबबंदी कानून के तहत एक लाख से ज्यादा लोग बिहार की जेलों में बंद हैं, जबकि बिहार की सभी जेलों को मिला दिया जाए तो भी उनमें एक लाख कैदियों को रखने की क्षमता नहीं है.”

बिहार में जेडीयू से अलग होने के बाद से आरजेडी शराबबंदी को लकर नीतीश सरकार पर हमलावर है. बुधवार को तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार सरकार का ‘रिपोर्ट कार्ड’ जारी किया था. इसके जरिए भी आरजेडी ने नीतीश सरकार पर हमला बोला था. तेजस्वी यादव ने आरोप लगाया था कि बिहार में शराब की होम डिलीवरी हो रही है. तेजस्वी यादव नीतीश कुमार सरकार पर ये आरोप लगाते रहे हैं.

कार्यक्रम के दौरान नीतीश कुमार ने कहा कि उन्हें ‘वोट’ नहीं ‘वोटरों’ की चिंता है. उन्होंने शराबबंदी की आलोचना करने वाले विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि जो लोग मानव श्रृंखला में हाथ से हाथ जोड़कर खड़े थे, वे अब शराबबंदी के खिलाफ बोल रहे हैं, यह कैसी नैतिकता है?

बिहार में शराबबंदी के दो साल पूरे होने के मौके पर उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग के द्वारा आयोजित कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि हमें वोट नहीं वोटरों की चिंता है. उन्होंने दावा करते हुए कहा कि शराबबंदी से समाज में बड़ा बदलाव हुआ है. नीतीश ने कहा कि शराबबंदी से बिहार में लाखों लोगों को फायदा हुआ है और कई परिवार सुखी हुए हैं जबकि बड़े पैमाने पर शराब की खेप पकड़ी गई है.

नीतीश ने कहा कि विपक्ष को जेल में बंद शराब पीने वालों, शराब बेचने वालों और शराब का कारोबार करने वालों की चिंता है, लेकिन वे उन लोगों की ओर नहीं देखते जिनकी जिंदगी शराबबंदी के बाद अच्छी हो गई है. शराबबंदी से लाखों परिवार को फायदा हुआ है. विपक्ष पर तंज कसते हुए नीतीश ने कहा, “बिहार में पूर्ण शराबबंदी का क्या असर है ये तो बिहार की जनता से पूछिए, उन लोगों को तो समाज के इस सुधार को लेकर भी राजनीति दिखती है, कमियां दिखती हैं.”