नई दिल्ली। भारतीय युवाओं के बढ़ती संख्या पर ध्यान केंद्रित करते हुए स्मार्टफोन ब्रांड कोमियो इंडिया ने गुरुवार को नए फीचर-लोडेड स्मार्टफोन कोमियो एस1 लाइट और सी2 लाइट मॉडल लॉन्च किए. जिनका मूल्य क्रमश 7,449 रुपये और 5,999रुपये रखा गया है. कंपनी ने एक बयान में कहा कि यह फोन अगले सप्ताह से उत्तर और पश्चिम भारत के बाजारों में उपलब्ध होंगे. लाइट श्रंखला का डिजाइन काफी अच्छा है, इन स्मार्टफोनों में स्टॉक एंड्रॉयड ओएस पर आधारित कोमियो यूआई है, इनका बैटरी बैकअप शक्तिशाली है. साथ ही इन स्मार्टफोनों में ओटीजी और कई सुरक्षा विशेषताएं हैं.

कोमियो स्मार्टफोन कंपनी के निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने कहा कि भारत बड़े अवसर और असीमित संभावनाओं वाला बाजार है. अपने ग्राहकों के लिए नई पेशकश कोमियो एस1 लाइट और सी2 लाइट से हम रोमांचित हैं. इनका डिजाइन और कैमरा भव्य है और बैटरी भी खूब चलती है. लाइट श्रंखला एक ऑल-राउंडर साबित होगी. कोमियो सभी ग्राहकों के लिये उचित मूल्य पर बेहतरीन उत्पादों की आपूर्ति करने में विश्वास रखता है.

कोमियो एस1 लाइट का डिजाइन अनोखा है और यह समुद्री नीले, रॉयल ब्लैक और सनराइज गोल्ड रंगों में उपलब्ध है. इसमें 13-मेगापिक्सल ऑटोफोकस वाला फ्लैश रीयर कैमरा है और फ्लैश के साथ हर बारीक पहलू को समेटने वाला 8-मेगापिक्सल सेल्फी कैमरा है. 5.0 इंच की एचडी आईपीएस डिस्प्ले व 3050 एमएएच की बैटरी के साथ इस स्मार्टफोन में 2 जीबी रैम और 32 जीबी रोम कंपनी ने दिया है.

कंपनी ने बयान में कहा कि इसके अलावा इन स्मार्टफोन में 128जीबी की एक्सपैंडेबल मेमोरी और शानदार म्यूजिक क्वलिटी है. इसकी डिजाइन पर विशेष ध्यान दिया गया है. सी2 लाइट में पांच इंच की एचडी आईपीएस डिस्प्ले है और यह सनराइज गोल्ड, रॉयल ब्लैक और मेटलिक ग्रे रंगों में उपलब्ध है. इसमें स्टॉक एंड्रॉयड 7.0 नौगट पर आधारित कोमियो यूआई है.

यह भी पढ़ें- मोटो का Z2 force इंडिया में लॉन्च, इन जबरदस्त फीचर्स से है लैस

बयान में आगे कहा गया है कि कोमियो सी2 लाइट में 3900एमएएच की बैटरी है, जो 27 घंटे के टॉकटाइम के साथ दो दिनों तक चार्ज रहती है और इसका स्टैंडबाय टाइम 270 घंटे का है. कोमियो स्मार्टफोन के निदेशक और सीईओ संजय कुमार कलिरोना ने कहा कि हम ग्राहकों को रिलायंस जियो के साथ बेमिसाल डेटा और कैशबैक ऑफर्स की पेशकश कर रहे हैं. इसकी पेशकश मौजूदा युग में हमारे दैनिक जीवन में इंटरनेट के उच्च इस्तेमाल को ध्यान में रखकर की जा रही है.