रुड़की. आईआईटी रुड़की ने एक ऐसा उपकरण विकसित किया है जो सुपर कंप्यूटर में नए युग की शुरुआत कर सकता है. इंजीनियरों की मेहनत अगर रंग लाई तो आने वाले दिनों में मेमोरी की कमी से परेशान नहीं होना पड़ेगा.

इसका नाम मैग्नेटोइलेक्ट्रिक रैंडम एक्सिस मेमोरी डिवाइस है. यह डिवाइस आने वाले दिनों में मोबाइल और कंप्यूटर जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में मेमोरी चिप्स की जगह इस्तेमाल हो सकता है.

इस संबंध में रुड़की के भौतिकी विभाग और सेंटर फॉर नैनो टेक्नोलॉजी की प्रोफेसर देवेंद्र कौर वालिया ने कहा कि दुनिया तेजी से तीव्र, छोटी और क्वांटम तकनीकों की तरफ बढ़ रही है, इसलिए अधिक सक्षम डिवाइस और तकनीकों की मांग बढ़ रही है.

उन्होंने कहा कि हमने फोर लॉजिक स्टेट पर ध्यान केंद्रित किया, क्योंकि हम जानते थे कि हम ऐसा डिवाइस बना लेंगे जिससे नई तकनीकी क्रांति की शुरुआत होगी.