वोडाफोन इंडिया और आइडिया ने रविवार को मर्जर का ऐलान किया तो टेलिकॉम सेक्टर में अचानक खलबली पैदा हो गई। ये भी कहा जा रहा है कि रिलायंस जियो को टक्कर देने के लिए ही दोनों कंपनियों ने ये फैसला किया है। ये दो कंपनियां मिलकर भारत की नंबर वन टेलिकॉम कंपनी बनने का माद्दा रखती हैं। लेकिन ये तो कंपनियों के फायदे और बिज़नेस की बातें हुई। वोडाफोन-आईडिया के ग्राहकों को इस मर्जर से क्या फायदे होंगे? आइये इसी की संभावना तलाशते हैं।

प्राइज़ वॉर का नया दौर

टेलिकॉम सेक्टर में प्राइज़ वॉर कोई नई बात नहीं है लेकिन रिलायंस जियो इसे नए लेवल पर ले गया। हालांकि उसके फ्री 4जी इंटरनेट और वॉयज़ कॉलिंग जैसी सर्विस को बराबरी कोई और टेलिकॉम कंपनी नहीं दे पाई। सबने नए टैरिफ, नए प्लान ज़रूर लॉन्च किये। लेकिन जब वोडाफोन और आइडिया एक साथ आ गए हैं, और अप्रैल से जियो की मुफ्त सर्विस ख़त्म होने जा रही है तो माना जा रहा है कि टेलिकॉम सेक्टर में प्राइज़ वॉर का नया दौर शुरू होगा, जिसका सबसे ज्यादा फायदा ग्राहकों को होगा। उनके पास कम कीमत पर टेलिकॉम सर्विस चुनने के ऑप्शन बढ़ जाएंगे।

नेटवर्क होगा बेहतर

दोनों कंपनियों के साथ आने के बाद आइडिया और वोडाफोन का नेटवर्क एक हो जाएगा। ऐसा होने पर इसके मौजूदा ग्राहक जो नेटवर्क की कमी की शिकायत करते हैं। कई ग्राहक तो इसी वजह से दूसरी सर्विस की तरफ अपना रुख कर लेते हैं। ऐसे ग्राहकों की शिकायत दूर होने की उम्मीद है। मुमकिन है कि दोनों के नेटवर्क जुड़ने से ग्राहकों को बेहतर कनेक्टिविटी मिलेगी।

अच्छी सर्विस

जब वोडाफोन और आइडिया जैसी देश की दो दिग्गज टेलिकॉम कंपनियां एक साथ जुड़ेंगी तो ज़ाहिर है कि उनके पास सोर्स बढ़ जाएंगे। ऐसे सोर्स जिनका इस्तेमाल वो बेहतर सर्विस के लिए करेगी। दोनों के ग्राहक को डबल टेक्नोलॉजी का काफी फायदा मिल सकता है। खराब नेटवर्क, कॉल ड्रॉप समेत कई परेशानियां दूर हो सकती हैं। सर्विस की क्वालिटी बेहतर होने की उम्मीद की जा सकती है।

जियो बदल सकता है रणनीति

रिलायंस जियो के ग्राहकों की संख्या इस वक्त बहुत ज्यादा है। लेकिन वोडा-आइडिया के मिलने से मुमकिन है ति इनके ग्राहक जियो से ज्यादा हो जाएं। इस वजह से जियो इस नई प्रतियोगिता से निपटने के लिए नए-एन ऑफर ला सकता है। अभी तक उसे कोई टक्कर नहीं दे रहा था, लेकिन अब जब कि वो फ्री इंटरनेट सर्विस खत्म करने जा रहा है तो उसे टक्कर मिल सकती है। मुमकिन है ऐसे में जियो कोई ऐसा प्लान ले आए कि वो एक बार फिर दूसरी टेलिकॉम कंपनियों को पीछे छोड़ दे। ऐसे में ग्राहकों की चांदी होना तय है।