लखनऊ: बाबा साहेब डा. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को लेकर चल रहा विवाद रूकने का नाम नहीं ले रहा है. विवादों के दौरान यूपी का बदायूं जिला खास चर्चा में रहा है. बदायूं शहर के बीचोबीच चौराहे पर बाबा साहेब की प्रतिमा को सुरक्षा के चलते पिंजरे में कैद कर दिया गया. ताकि प्रतिमा को किसी प्रकार का नुकसान न पहुंचाया जा सके. इस पर जब लोगों ने विरोध शुरू किया तो पुलिस महकमें ने पिंजरे को हटवा दिया, तब जाकर लोगों का गुस्सा कम हुआ.

पढ़ें: बदायूं में बाबा साहेब डा. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा हुई भगवामय

बदायूं में बाबा साहेब आंबेडकर की प्रतिमा से जुड़े विवाद रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं. हाल ही में आंबेडकर की भगवा रंग की प्रतिमा लगने पर हुआ विवाद थम भी नहीं पाया था कि बाबा साहेब की मूर्ति पर एक और विवाद सामने आ गया है. इस बार मामला शहर के गद्दी चौक स्थित आंबेडकर पार्क का है. जहां आंबेडकर की प्रतिमा को लोहे के पिंजरे में कैद कर दिया. प्रतिमा को पिंजरे में कैद करने का यह मामला चर्चा में आया तो लोगों ने विरोध शुरू कर दिया. इस पर पुलिस महकमा फौरन सक्रिय हुआ और प्रतिमा को पिंजर को हटवाकर प्रतिमा को खुले में करवा दिया.

 

badaun-2

 

पढ़ें: बदायूं में हंगामे के बाद बदला बाबा साहेब अंबेडकर की प्रतिमा का रंग, भगवा से नीला किया

बदायूं में ही अंबेडकर की प्रतिमा को कर दिया था भगवा

हाल ही में बदायूं जिले के दुगरैया में बाबा साहेब की प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दिया गया था. इसके बाद वहां पर नई मूर्ति लगाई गई थी, लेकिन मूर्ति भगवा रंग की होने की वजह से चर्चा का विषय बन गई. इस पर जब काफी विवाद होने लगा तो फौरन प्रतिमा को नीले रंग से रंगा गया था. तब जाकर मामला शांत हुआ था.