गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा पुरजोर वकालत किए जाने के बाद केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने गोरखपुर में हर साल सैकड़ों बच्चों की मौत का सबब बनने वाले मस्तिष्क ज्वर पर गहन अनुसंधान के लिए एक ‘रीजनल वायरस रिसर्च सेंटर’ की स्थापना का एलान किया है.

केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जे. पी. नड्डा ने रविवार को संवाददाताओं से बातचीत में इसकी घोषणा करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मांग पर गोरखपुर में मष्तिष्क ज्वर रोग पर गहराई से अनुसंधान के लिए एक रीजनल वायरस रिसर्च सेंटर (क्षेत्रीय वायरस अनुसंधान केन्द्र) स्थापित होगा. केन्द्र सरकार इसके लिए 85 करोड़ रुपये देगी.

उन्होंने कहा कि योगी इंसेफलाइटिस के उन्मूलन के लिये संवेदनशील हैं. उनके ही प्रयास से राष्ट्रीय टीकाकरण अभियान में इंसेफलाइटिस रोधी टीकाकरण को जोड़ा गया है. गोरखपुर में अनुसंधान केन्द्र बन जाने से इस बीमारी पर रोक लगाने में सफलता मिलेगी. यह केंद्र पूर्ण विकसित होगा, जिससे बच्चों में होने वाले अन्य रोगों के निदान में भी मदद मिलेगी.

नड्डा का यह बयान मुख्यमंत्री योगी की प्रेस कांफ्रेंस में की गई उस टिप्पणी के बाद आया है, जिसमें उन्होंने गोरखपुर में पूर्णकालिक वायरस रिसर्च सेंटर की स्थापना की पुरजोर वकालत की थी.

इसके पूर्व, मुख्यमंत्री ने संवाददाताओं से कहा ‘‘पूर्वी उत्तर प्रदेश की बनावट ऐसी है कि हम संचारी रोगों से लड़ाई को तब तक नहीं जीत सकते जब तक यहां पूर्णकालिक वायरस रिसर्च सेंटर नहीं बन जाता. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने गोरखपुर को एम्स दिया है लेकिन यहां पूर्णकालिक वायरस रिसर्च सेंटर भी होना चाहिए.’’

योगी ने इंसेफलाइटिस के खिलाफ अपनी लड़ाई के बारे में भावुक अंदाज में जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने बच्चों को मरते हुए देखा है. उन्होंने कहा ‘‘इस मुद्दे पर मुझसे अधिक संवेदनशील और कौन हो सकता है. मैंने इस मुद्दे को सड़क से संसद तक उठाया है. इस बीमारी की पीड़ा मुझसे ज्यादा और कौन समझेगा.’’

योगी ने यह भी बताया कि प्रदेश के 35 जिलों में 90 लाख से ज्यादा बच्चों के टीकाकरण का सघन अभियान शुरू किया गया है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री बनने के बाद गोरखपुर मेडिकल कालेज का यह उनका चौथा दौरा है. उन्होंने मेडिकल कालेज में 30 बच्चों की मौत की घटना के विषय में मीडिया की ओर इंगित करते हुए गलत रिपोर्टिंग ना करने की सलाह दी.

योगी ने बताया कि प्रदेश के मुख्य सचिव और केन्द्रीय सचिव इस घटना की जांच करके रिपोर्ट देंगे. दिल्ली की उच्च स्तरीय टीम भी पूरे मामले की जांच कर रही है. रिपोर्ट आते ही घटना में संलिप्त लोगों के खिलाफ कठोर कार्रवाई होगी. जिम्मेदारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा.

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने गोरखपुर मेडिकल कालेज में हाल में बड़ी संख्या में बच्चों की मौत की घटना पर अफसोस जाहिर करते हुए कहा कि इसकी पड़ताल के लिए दिल्ली के विशेषज्ञ चिकित्सक गोरखपुर पहुंच चुके हैं. वह घटना और मौतों के कारणों की जानकारी प्राप्त कर रहे हैं.

मेडिकल कालेज अस्पताल में तीन दिन पहले 30 बच्चों की मौत की घटना के बाद आज मुख्यमंत्री आदित्यनाथ और केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री नड्डा अस्पताल पहुंचे. दोनों ने अस्पताल में भर्ती मरीजों और उनके परिजनों से मुलाकात करके इलाज, दवा आदि के बारे में पूछताछ की. मुख्यमंत्री ने 10 और 11 अगस्त के दिन अस्पताल की व्यवस्थाओं के बारे में भी जानकारी ली.

मेडिकल कालेज अस्पताल में मुख्यमंत्री और केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने अस्पताल प्रशासन और जिला प्रशासन के अधिकारियों और दिल्ली एवं राज्य सरकार से आए अधिकारियों के साथ चर्चा की.