लखनऊ: उन्नाव रेपकांड के मामले में आखिरकार यूपी के मुख्यवमंत्री ने अपनी चुप्पी तोड़ दी है. चित्रकूट में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उनकी सरकार अपराध और भ्रष्टाचार को लेकर ‘जीरो टालरेंस’ की नीति से हटी नहीं है.

आईएनएस के मुताबिक, योगी ने चित्रकूट में पत्रकारों से कहा कि जैसे ही नौ अप्रैल को प्रकरण सरकार के संज्ञान में आया, उन्होंने तत्काल एसआईटी (विशेष जांच दल) बनावाया और कार्रवाई शुरू की. एसआईटी की रिपोर्ट में जो पुलिसकर्मी और डाक्टर दोषी पाये गये, उन्हें निलंबित किया गया है. उन्होंने कहा कि मामला सीबीआई को सौंपा है. भाजपा सरकार शुरुआत से ही अपराध और भ्रष्टाचार को लेकर ‘जीरो टालरेंस’ (जरा भी बर्दाश्त नहीं करना) की नीति पर चल रही है . हम इस नीति को लेकर कोई समझौता नहीं करेंगे.

 

 

पढ़ें : उन्नाव रेप केस: हिरासत में लिए गए बीजेपी विधायक सेंगर

अपराधी कितना भी बड़ा हो, कानून सबके लिए एक

मुख्यीमंत्री योगी आदित्यकनाथ ने कहा कि हम अपराधियों से सख्ती से निपटते हैं. चाहे वह कितना ही बड़ा या प्रभावशाली क्यों ना हो. राज्य सरकार के प्रवक्ता कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि कानून अपना काम करेगा. उन्होंने विपक्ष पर आरोप लगाया कि वह महिला सुरक्षा के मुद्दे पर घड़ियाली आंसू बहा रहा है. सिंह ने बताया कि प्रकरण की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश की गयी. सीबीआई ने जांच अपने हाथ में ले ली है. आरोपी विधायक को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया जा चुका है .

पढ़ें : कठुआ-उन्नाव गैंगरेपः विदेशी मीडिया में भी छाया मुद्दा, देश की छवि को लगा बट्टा

कैबिनेट मंत्री ने पूछा, अखिलेश यादव ने क्योंप किया था गायत्री प्रजापति बचाव

विधायक की गिरफ्तारी में विलंब का आरोप लगा रहे विपक्ष पर पलटवार करते हुए उन्होंने कहा कि किस तरह पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बलात्कार के आरोपी मंत्री गायत्री प्रजापति का बचाव किया था. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के कैंडिल मार्च पर सिंह ने कहा कि जो लोग कैंडल मार्च कर रहे हैं, उन्हें याद रखना चाहिए कि तंदूर कांड उनकी ही सरकार के समय (जुलाई 1995) हुआ था.