नई दिल्ली: अयोध्या ढांचा विध्वंस की 25वीं बरसी से पहले मेरठ में कई स्थानों पर रातोंरात आपत्तिजनक पोस्टर लगाकर फिजा बिगाड़ने की कोशिश की गई. इन पोस्टरों में धोखे के 25 साल, कहीं हम भूल न जाएं, बाबरी मस्जिद की दोबारा तामीर करो जैसे स्लोगन लिखे हैं.

आपको बता दें, कि पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया संगठन के नाम से चस्पा मेरठ के लिसाड़ी गेट इलाके में जगह-जगह पोस्टर चस्प किए गए हैं. लिसाड़ी गेट इलाके की विभिन्न कॉलोनियों को दीवारों पर बाबरी मस्जिद से संबंधित भड़काऊ स्लोगन लिखे यह पोस्टर लोगो की भारी भीड़ ने देखे भी है. यह भी पढ़ें: बाबरी मस्जिद विवाद में क्या है सीबीआई की भूमिका?

शहर में लगे भड़काऊ पोस्टर के मामले में पुलिस का कोई भी अफसर कुछ भी बोलने से बचते हुए नजर आ रहे हैं. ऐसे में सवाल खड़ा हो उठता है कि जिले की खुफिया टीम आखिर कर क्या रही है. इन पोस्टर्स के जरिए अगर शहर की फिजा खराब हुई तो उसका जिम्मेदार कौन होगा! वही इसी मामले की जानकारी एसएसपी मंजिल सैनी को मिली तो उन्होंने एक टीम को जांच पड़ताल में लगा दिया है, जिसमे मेरठ से किसी बाहरी युवक का नाम सामने आया है जिसे हिरासत में ले लिया है.

साथ ही मेरठ में भी कोई भी इसी मामले में शामिल हुआ उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही की जाएगी. 6 दिसंबर को हुए बाबरी मस्जिद कांड को लेकर में कुछ लोग विजय जलूस के रूप में मनाते है तो कुछ शोक के रूप में इसलिए संवेदनशील इलाको में सुरक्षा की नजर से भारी सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं.