लखनऊ: लखनऊ में सीएम आवास के सामने सुसाइड की कोशिश करने वाली युवती के पिता की कथित तौर पर पुलिस कस्टडी में मौत हो गई. मौत कैसे हुई, अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है. युवती और उसके पिता सहित परिवार के दूसरे सदस्यों को लखनऊ में सीएम आवास के सामने सुसाइड की कोशिश के बाद हिरासत में लिया गया था. एएनआई की खबर के अनुसार पुलिस की कस्टडी में युवती के पिता की कथित तौर पर मौत हो गई. घटना से हड़कंप मच गया है. बताया जा रहा है कि युवती के पिता को उल्टियां हो रही थीं. उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई.

युवती ने परिवार सहित सीएम आवास के सामने किया था सुसाइड का प्रयास
बता दें कि उन्नाव इलाके की रहने वाली एक युवती और उसके परिवार ने रविवार को सीएम योगी आदित्यनाथ के आवास के बाहर सुसाइड की कोशिश की थी. युवती ने यूपी के उन्नाव जिले के बांगरमऊ से बीजेपी विधायक पर साथियों के साथ मिलकर रेप का सनसनीखेज आरोप लगाया था. आरोप है कि विधायक ने उसके साथ रेप किया. युवती ने रविवार को कहा था कि ‘मैं न्याय के लिए भटक रही हूं, लेकिन कोई सुन नहीं रहा. अगर आरोपी अरेस्ट नहीं हुए तो मैं खुद को खत्म कर लूंगी.’

ये भी पढ़ें: यूपी: CM आवास के बाहर युवती ने की सुसाइड की कोशिश, BJP MLA पर लगाया रेप का सनसनीखेज आरोप, बोली- न्याय चाहिए

युवती ने बीजेपी विधायक पर लगाया था रेप का आरोप
यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के लखनऊ में आवास के बाहर एक युवती अपने परिवार के साथ पहुंची थी. यहां उसने सुसाइड की कोशिश की. पुलिस ने उसे बचाया. उसे व उसके परिवार को थाने ले जाया गया. इसके बाद युवती ने बताया कि बीजेपी के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने साथियों के साथ मिलकर उसके साथ रेप किया. वह काफी समय से न्याय के लिए भटक रही है. आरोप था कि पुलिस से शिकायत की तो उसे धमकियां मिली.

एडीजी ने दिए थे घटना की जांच के आदेश
घटना के बाद एडीजी लखनऊ राजीव कृष्ण मीडिया के सामने आए थे. उन्होंने कहा था कि बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर रेप का आरोप है. आरोप है कि शिकायत के बाद भी कोई एक्शन नहीं लिया गया. उसे पीटा भी गया. उन्होंने बताया कि दोनों पक्षों के बीच काफी पुराना विवाद है. केस को लखनऊ ट्रांसफर किया जा रहा है. आरोप जांच के बाद ही साबित हो सकते हैं.

विधायक ने खुद को बलि का बकरा बनाए जाने का बयान दिया था
इस मामले में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने रविवार को कहा था कि मामले में केस दर्ज है. पुलिस ने दो बेक़सूर लोगों को बचाया है. उन्हें मामले में बलि का बकरा बनाया जा रहा है. मैं प्रशासन से अपील करता हूं कि मामले की जांच कर सही दोषी पर कार्रवाई करे.