नई दिल्ली| गोरखपुर के बाबा राघवदास मेडिकल कॉलेज (बीआरडी) में 30 बच्चों की मौत की घटना पर उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से सफाई जारी की गई है जिसमें कहा गया है कि किसी भी रोगी की मौत ऑक्सीजन की कमी की वजह से नहीं हुई है. वहीं इस मामले में सियासत भी गर्माने लगी है. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के कहने पर चार कांग्रेसी नेता गुलाम नबी आजाद, राज बब्बर, संजय सिंह और प्रमोद तिवारी गोरखपुर पहुंच गए हैं.

कांग्रेस ने घटना के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराया है. गुलाम नबी आजाद ने कहा कि यह बहुत दुखद घटना है. ये राज्य सरकार की नाकामी का नतीजा है. मुख्यमंत्री को माफी मांगनी चाहिए. जांच के लिए सांसदों की टीम बने. स्वास्थ्य मंत्री सौंपे इस्तीफा. वहीं, बीएसपी नेता सुधींद्र भदोरिया भी योगी पर जमकर बरसे. उन्होंने कहा कि यूपी सीएम के लिए ये शर्म की बात है. अगर उन में जरा सी भी नैतिकता है तो उसे इस्तीफा दे देना चाहिए और जाकर देखना चाहिए कि कितनी ख़तरनाक घटना हुई है.

उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने बताया कि बच्चों की मौत अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है. सरकार इस बात का पता लगाने के लिए जांच समिति का गठन करेगी कि कहीं कोई लापरवाही तो नहीं हुई है. अगर कोई दोषी पाया गया तो उसे जवाबदेह बनाया जाएगा. सात अगस्त से अब तक हुई मौतों का ब्यौरा देते हुए सिंह ने बताया कि मेडिकल कॉलेज के पीडियाट्रिक विभाग से मिली जानकारी के अनुसार इस अवधि में 60 बच्चों की विभिन्न रोगों से मृत्यु हुई है. सिंह ने भी कहा कि ऑक्सीजन की कमी से मौतें नहीं हुई हैं.

बच्चों की मौत के मामले में स्थिति की समीक्षा के लिए राज्य के सिद्धार्थ नाथ सिंह और चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन शनिवार को शहर के लिए रवाना हुए. दोनों मंत्री जमीनी स्तर पर स्थिति की समीक्षा करने और इस मामले में एक विस्तृत रिपोर्ट तैयार करने के लिए शहर के दौरे के लिए रवाना हुए हैं. दोनों मंत्रियों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के संसदीय निर्वाचन क्षेत्र और गृहनगर के लिए रवाना होने से पूर्व उन्हें स्थिति से अवगत कराया.

मेडिकल कालेज में धरना प्रदर्शन शुरू
बाबा राघवदास मेडिकल कालेज स्थित नेहरू हॉस्पिटल में भर्ती 30 बच्चों की मौत के मामले पर विभिन्न सामाजिक संगठन और राजनीतिक दल आज मेडिकल कॉलेज परिसर में धरना प्रदर्शन कर रहे हैं. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मेडिकल कालेज पहुंच गये हैं. प्रदर्शन कर रहे लोगों में सपा, बसपा और कांग्रेस के कार्यकर्ता शामिल हैं. प्रदर्शनकारी उक्त घटना में सम्मिलित चिकित्सक, प्रधानाचार्य और अधीक्षक पर हत्या का मामला दर्ज करके इन सबकी गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं. वे मृतक बच्चों के परिवारों को 20-20 लाख रुपये का मुआवजा देने की भी मांग कर रहे हैं.

जिला प्रशासन ने स्थिति को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस बल मेडिकल कालेज परिसर में तैनात कर दिया है. मेडिकल कालेज पहुंचने वाले कांग्रेस के नेताओं में वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर शामिल हैं. गौरतलब है कि जिलाधिकारी राजीव रौतेला ने कल बताया था कि मेडिकल कालेज में पिछले 48 घंटे में 30 बच्चों की मौत हो गयी थी लेकिन उन्होंने बच्चों की मौत का कारण नही बताया था.