लखनऊ। गोरखपुर में बाबा राघव दास (बीआरडी) मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत के बाद अस्पताल प्रशासन के खिलाफ कार्रवाई शुरू हो गई है. हादसे में बच्चों की जान बचाने वाले मसीहा के तौर पर उभरे इंसेफेलाइटिस वार्ड के प्रभारी और चाइल्ड स्पेशलिस्ट डॉ. कफील खान को उनके पद से हटा दिया गया है.

कफील को हॉस्प‍िटल की सभी ड्यूटी से हटा दिया गया है. कफील की जगह डॉ. भूपेंद्र शर्मा को नियुक्त किया गया है. कफील पर हुए कार्रवाई पर बोलते हुए मेडिकल एजुकेशन के डीजी के.के. गुप्ता ने कहा कि जब 52 सिलेंडर उस रात स्टॉक में थे तो तीन सिलेंडर डॉ. कफील खान लाकर के कोई बहुत तीर नहीं मार लेंगे.

इससे पहले खबरें आईं थी कि डॉ. कफील ने अपने दम पर ऑक्सीजन सिलेंडर का इंतजाम किया. उनकी इस कोशिश ने कितने घरों के चिराग बुझने से बचा लिए थे. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन खत्म होने के बाद अफरा-तफरी का माहौल था. रात को 2 बजे डॉ. कफील खान को सूचना मिली कि कुछ ही देर में उनके वार्ड की ऑक्सीजन खत्म हो जाएगी.

इसके बाद उन्होंने तुरंत अपनी कार निकाली और अपने दोस्त डॉक्टरों के अस्पताल के लिए निकल पड़े. डॉ. कफील अपने दोस्त डॉक्टरों से तीन जंबो ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर बीआरडी मेडिकल पहुंचे. डॉ. कफील के इस प्रयास की खूब सराहना हुई.