लखनऊ: यूपी एसटीएफ ने कछुए की खाल की तस्करी करने वाला अरेस्ट किया है. एसटीएफ ने 27 किलो कछुए की सूखी खाल भी बरामद की है. पुलिस के मुताबिक पकड़ा गया युवक कछुए की खाल की तस्करी करता था. काफी समय से वो ये काम कर रहा था. एसटीएफ ने उसे पकड़ने में सफलता हासिल की है.

यूपी एसटीएफ के अनुसार पकड़ा गया शख्स कहाँ से कछुए की खाल लाता था. कहाँ और किसे बेचता था, इसकी पूछताछ की जा रही है. यह भी जांच की जा रही है कि कहीं वह ज़िन्दा कछुओं को मारकर सुखाकर तो नहीं बेचता था.

 

तंत्र मंत्र के लिए इस्तेमाल की जाती थी खाल

बता दें कि लम्बे समय से कछुआ तस्करी की जाती रही है. कछुआ की जान तंत्र और साधना का शिकार भी रही है. दुर्लभ प्रजाति के कछुओं के व्यापार किया जाता है. तांत्रिकों का दावा होता है कि 20 नदुर्लभ प्रजाति के ख (नाखून) वाले कछुए मिल जाएं तो साधना के जरिए वे नोटों की बारिश करा सकते हैं. दीपावली नजदीक आते ही तंत्र साधना के लिए कछुओं की मांग बढ़ जाती है. वैसे कछुओं की तस्करी का कारोबार मर्दाना ताकत बढ़ाने के लिए भी होता है, लेकिन तंत्र-मंत्र के जरिए नोटों की बारिश कराने वाले तांत्रिकों के दावों के कारण कछुओं की मांग रहती आई है. कुछ समय पहले पीलीभीत में बड़ी संख्या में कछुआ तस्करों से बरामद किए गए थे. तस्करी करने वाले तालाबों, नदियों और झीलों से कछुए खोजते रहते हैं. इस कारण कछुओं की प्रजातियों पर संकट खड़ा हो गया है.