लखनऊ: बसपा प्रमुख मायावती ने भारत बंद के दौरान हुई हिंसा और दलितों की गिरफ्तारी को लेकर बीजेपी पर निशाना साधा है. उन्होंने बीजेपी को डरा हुआ बताया. कहा कि, बीजेपी की जहां सरकारें हैं वहां दलितों पर हमले हो रहे हैं. साथ ही उन्होंने बीजेपी के दलित सांसदों पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि मुझे भरोसा है कि देश के स्वाभिमानी दलित समाज के लोग स्वार्थी और बिकाऊ मानसिकता वाले सासदों को माफ़ करने वाले नहीं हैं. उनका इशारा बीजेपी के दलित सांसदों की ओर था.

एएनआई के अनुसार मायावती ने लखनऊ में कहा कि एससी/एसटी एक्ट में बदलाव को लेकर हुए भारत बंद आंदोलन को बड़े पैमाने पर सफलता मिली. इससे बीजेपी डर गई. उन्होंने कहा कि जहां-जहां बीजेपी की सरकारें हैं, उन राज्यों में दलितों पर हमले हो रहे हैं, उन पर अत्याचार किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि कई दलितों और उनके परिवार के सदस्यों को गिरफ्तार किया जा रहा है.

 

बिकाऊ मानसिकता वाले सांसदों को माफ़ नहीं करेगी जनता
मायावती ने बीजेपी के दलित सांसदों पर भी निशाना साधा. कहा कि मुझे भरोसा है कि देश के स्वाभिमानी दलित समाज के लोग स्वार्थी और बिकाऊ मानसिकता वाले सासदों को माफ़ करने वाले नहीं हैं. उनका इशारा बीजेपी के दलित सांसदों की ओर था. बता दें कि भारत बंद के दौरान हिंसा के बाद बीजेपी के दलित सांसदों में भी रोष है. कई दलित सांसद पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिख असंतोष ज़ाहिर कर चुके हैं. कुछ ने आरोप लगाया है कि बीजेपी की केंद्र सरकार ने चार सालों में दलितों के लिए कुछ नहीं किया है.

ये भी पढ़ें: मायावती ने SC/ST एक्ट कमज़ोर करने के आरोपों की दी सफाई, कहा- अपनी कमियां छिपाना चाहती है बीजेपी

बीजेपी को ठहराया था हिंसा के लिए जिम्मेदार
बता दें कि एससी/एसटी एक्ट में किए गए बदलाव को लेकर 2 अप्रैल को भारत बंद कर आन्दोलन किया गया था. दलित संगठनों के इस आंदोलन के दौरान हिंसा हो गई थी. देश भर में सात लोग मारे गए थे. यूपी के कई शहरों में बड़े पैमाने पर बवाल हुआ था. बसों को जला दिया गया था. ट्रेनों को रोका गया. ट्रैक को नुकसान पहुंचाया गया था. हिंसा कराने के आरोप में दलित नेताओं और बसपा के दर्जनों नेताओं की हिंसा कराने के आरोप में गिरफ्तारी हो चुकी है. मायावती ने इसके बाद बीजेपी पर ही दलितों के आंदोलन में हिंसा कराए जाने का आरोप लगाया था. उन्होंने कहा था कि जानबूझकर हिंसा कराई गई और दलितों को इसमें फंसाकर जेल भेजा जा रहा है.