लखनऊ: यूपी सरकार का जेल में बंद माननीयों के खिलाफ एक और सख्त कदम, प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार ने जेल में बंद विधायकों के विधानसभा सत्र में शामिल होने के मंसूबो पर अंकुश लगाने का फैसला किया है. इन माननीयों की विधान सभा सत्र में शामिल होने की अनुमति देने सम्बन्धी कोर्ट में दी गयी अर्जी का सरकार ने विरोध करने का फैसला किया है.

प्रमुख सचिव गृह ने इस बाबत जारी किए निर्देश

प्रमुख सचिव गृह ने इस संबंध में सभी जिलों को निर्देश जारी कर दिए हैं. अभियोजन अधिकारी को भी निर्देशित कर दिया गया है. जिससे कि यूपी की जेलों में बंद विधायक विधानसभा सत्र में शामिल नहीं हो पाएं.

3 बाहुबली विधायक जेल में हैं निरुद्ध

गौरतलब है कि मौजूदा विधान सभा के तीन बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी, बृजेश सिंह व हरिओम यादव जेल में बंद है. उनके द्वारा विधानसभा सत्र में शामिल होने की अनुमति प्राप्त करने के संबंध में याचिका कोर्ट में डाली गई थी.
इस याचिका का प्रदेश सरकार द्वारा विरोध किए जाने का निर्णय लिया गया है और इस संबंध में समुचित निर्देश दे दिए गए हैं. जिससे जेल में निरुद्ध विधायकों की मुश्किलें बढ़ जाएंगी और वह जेल से बाहर नहीं आ पाएंगे.
इसके पूर्व राज्य सभा चुनाव में वोटिंग के समय भी सरकार ने कोर्ट में इनकी वोट देने की अर्ज़ी का विरोध किया था जिसके चलते राज्य सभा चुनाव में ये वोट नहीं डाल सके थे. सरकार के इस कदम का राजनीतिक गलियारों में चाहे जो मतलब हो लेकिन आम जनमानस में एक अच्छा सन्देश जरूर जा रहा है.