उरई: फेसबुक पर खुद को ‘नया बाप’ लिख पिता को गोली मारने वाले 17 साल के बेटे को अरेस्ट कर लिया गया है. अरेस्ट करने के बाद पुलिस ने पिता को मारने की वजह पूछी तो उसने कहा कि ‘वो बहुत डांटते थे और गाली देते थे, इसलिए उन्हें गोली मार दी.’ पुलिस ने उसे अरेस्ट कर जेल भेज दिया है. पिता की हत्या करने वाले बेटे ने हत्या के दिन ही सुबह उसने खुद को ‘उरई का नया बाप’ लिख रायफल के साथ फेसबुक पर पोस्ट डाला था. और शाम में पिता की हत्या कर दी थी. वायरल हुई इस पोस्ट को 1 हज़ार लाइक्स मिले थे. आरोपी अपने नाम के आगे ‘जेल’ लगाता है. उसका घर जिला जेल के ठीक सामने है.

बता दें कि उरई जिले में जेल के ठीक सामने कैलाश यादव रहते थे. वह लेखपाल संघ के पूर्व जिलाध्यक्ष थे. उनके छोटे पुत्र श्यामजी यादव जी को सिर्फ 17 साल की उम्र में हथियारों का शौक लग गया. 3 अप्रैल, 2018 को उसकी पिता कैलाश यादव से कहासुनी हुई थी. बताते हैं कि कुछ दिन पहले ही श्यामजी लगभग 90 हज़ार की महंगी नई बाइक खरीदकर लाया. पिता कैलाश ने उससे बाइक के लिए रुपए कहां से आए, के बारे में पूछा. इसी बात पर उसकी पिता से कहा-सुनी हो गई. कहासुनी के बीच उसने पिता पर रायफल से गोली चला दी. उसने तीन गोलियां मारी. इससे पिता की मौके पर ही मौत हो गई थी. जालौन पुलिस ने बताया कि आरोपी को अरेस्ट करने के लिए कई टीमें गठित की गई थीं.

ये भी पढ़ें: फेसबुक पर खुद को ‘नया बाप’ लिख 17 साल के बेटे ने पिता को मार दी गोली, Viral हुई पोस्ट

घर में थे कई बंदूकों के लाइसेंस
मृतक के बड़े बेटे रामजी यादव ने बताया कि श्यामजी की संगति ठीक नहीं थी. उसे दिखावे का शौक था. घर में पिता के नाम कई बंदूकों के लाइसेंस थे. वह अक्सर बंदूकों के साथ घूमता था. जिस रायफल से हत्या की, वह भी पिता के ही नाम थी.

जिस आधुनिक रायफल के साथ श्याम जी है, उसी से उसने पिता को मार दिया. मृतक कैलाश की फाइल फोटो.
जिस आधुनिक रायफल के साथ श्याम जी है, उसी से पिता को मार दिया. मृतक कैलाश की फाइल फोटो.

 

लेखपाल संघ के जिलाध्यक्ष थे कैलाश
कैलाश यादव उरई के जिला लेखपाल संघ के जिलाध्यक्ष रह चुके थे. वह बरसार गाँव में लेखपाल के तौर पर तैनात थे. पुलिस ने बताया कि हत्या करने वाले बेटे को अरेस्ट करने के लिए पुलिस की कई टीमें गठित की गई थी.

बंदूकों के साथ फोटोज डालने का भी था शौक
पुलिस की गिरफ्त में आए पिता की हत्या के आरोपी श्याम जी की उम्र अभी 17 साल है. वह फेसबुक पर काफी एक्टिव था. 3 अप्रैल को सुबह 8 बजे उसने आधुनिक रायफल के साथ तस्वीर डाली और खुद को ‘उरई का नया बाप, एसएस यादव जेल’ लिखा. इसके बाद शाम में पिता को गोली मार दी. ये पोस्ट खूब वायरल हुई. सैकड़ों लोगों ने उस पर कमेंट किया. उसने एक बार रिवाल्वर के साथ फोटो डाल कर लिखा कि ‘हम मरेगें भी तो उस अंदाज से, जिस अंदाज में लोग जीने को भी तरसते हैं.’