लखनऊः पिछले माह गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनावों में भाजपा की बुरी हार और हाल में उत्तर प्रदेश के चार दलित सांसदों की नाराजगी के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने चिंता जताई है. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक शनिवार को सीएम योगी को दिल्ली तलब किया गया था. इस दौरान उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात की. इस मुलाकात के दौरान शाह ने भी कुछ क्षेत्रों में राज्य के नेतृ्त्व के विफल रहने पर अपनी चिंता जताई. अब शाह 11 अप्रैल को लखनऊ के दौरे पर आने वाले हैं. यहीं वह जमीनी स्तर पर स्थिति का मूल्यांकन करेंगे.

रिपोर्ट में कहा गया है कि संघ के दो उच्च पदाधिकारियों के तीन दिवसीय यूपी दौरे के बाद पीएम मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने यूपी के सीएम से स्पष्टीकरण मांगा था. संघ के वरिष्ठ पदाधिकारी कृष्ण गोपाल और दत्तात्रेय होसबोले ने राज्य के दोनों उपमुख्यमंत्रियों, मंत्रियों, पार्टी के पदाधिकारियों, संघ के नेताओं और जमीनी स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत के आधार पर रिपोर्ट तैयार की थी.

पार्टी ने शिष्टाचार मुलाकात बताया
आधिकारिक तौर पर सीएम योगी की पीएम मोदी से मुलाकात को नियमित चर्चा और शिष्टाचार मुलाकात करार दिया गया है. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट में पार्टी के अंदरूनी सूत्रों के हवाले से यह भी दावा किया गया है कि इस मुलाकात का बहुत जल्द ही असर देखने को मिलेगा. अगर भाजपा की सरकार में कोई बड़ा बदलाव होता है तो इसमें किसी को कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए.

BJP MLA पर रेप का आरोप लगाने वाली युवती के पिता की पुलिस कस्टडी में संदिग्ध हालत में मौत

सपा और बसपा के गठबंधन को लेकर पहले ही संघ ने भाजपा नेतृत्व को अलर्ट कर दिया है. सपा-बसपा के गठबंधन के कारण दलित और मुस्लिम वोटों का ध्रुवीकरण हो जाएगा. यूपी भाजपा में जारी खटपट के बीच शनिवार शाम को योगी को बुलाया गया था. माना जा रहा है कि इस मुलाकात के दौरान पीएम ने योगी से जल्द से जल्द मुद्दों को सुलझाने को कहा.

गौरतलब है कि यूपी से भाजपा के चार दलित सांसदों सावित्री बाई फुले, छोटे लाल, यशवंत सिंह और अशोक डोहरे ने दलितों के खिलाफ अत्याचार को लेकर राज्य और केंद्र के पार्टी नेतृत्व के समक्ष अपनी नाराजगी जताई है. इस कारण गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव हारने के एक माह के भीतर सीएम योगी को दूसरी बार परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. भाजपा के राज्य स्तरीय नेतृत्व और सरकार में बढ़ते टकराव को देखते हुए सरकार और संगठन में अहम बदलाव होने के कयास लगाए जा रहे हैं.