लखनऊ: समाजवादी पार्टी ने उन्नाव गैंग रेप मामले को लेकर प्रदेश की योगी सरकार पर तीखा हमला बोला है. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किरणमय नंदा ने कहा कि योगी सरकार के एक साल के कार्यकाल में यूपी को और किसी मामले में तो अवार्ड नहीं मिला हो या नहीं लेकिन ये जरूर है कि इस एक साल में क्राइम के मामले में जरूर यूपी की योगी सरकार ने पूरे देश में अव्वल आने का रिकॉर्ड बनाया है.

नंदा ने उन्नाव मामले में मीडिया और हाईकोर्ट की भूमिका की सराहना करते हुए कहा कि यूपी सरकार ने आरोपी विधायक को बचाने में कोई कसर नहीं छोड़ रखी थी. समाजवादी पार्टी ने यूपी सरकार से मांग की है कि पीड़िता के परिवार को 50 लाख का मुआवजा दिया जाए और उसके साथ ही परिवार के सदस्यों को नौकरी, आवास के साथ-साथ परिवार को सुरक्षा भी दी जाए. उन्नाव रेप मामले में समाजवादी पार्टी ने भी एक जांच कमेटी गठित की थी जिसकी रिपोर्ट उन्होंने मीडिया के सामने रखी.

सपा की प्रेस कॉन्फ्रेंस में राजेंद्र चौधरी, नरेश उत्तम पटेल, महिला सभा की प्रदेश अध्यक्ष गीता सिंह, सुनील साजन मौजूद रहे. समाजवादी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने बताया कि 11 अप्रैल को सपा की 5 सदस्यीय जांच टीम सपा की महिला सभा प्रदेश अध्यक्ष गीता सिंह के नेतृत्व में उन्नाव गई थी. जांच टीम ने अपनी रिपोर्ट समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को सौंपी दी है.

अब क्यों मौन है राजभवन
उन्नाव मामले सपा ने राजभवन की चुप्पी पर भी तंज कसा. सपा प्रवक्ता का कहना है कि इस पूरे मामले के लिए बीजेपी सरकार जिम्मेदार है. बावजूद इसके राजभवन पूरे मामले पर अभी तक मौन है. राजेंद्र चौधरी ने कहा कि ऐसे हालात में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी को इस्तीफ़ा दे देना चाहिए. उन्होंने उन्नाव पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल उठाया. सपा प्रवक्ता ने कहा कि मामले में पुलिस की भूमिका संदिग्ध पाई गई है, पुलिस की मिलीभगत से इस केस में हालात बद से बदतर हुए. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किरणमय नंदा ने पूर्व सीएम अखिलेश यादव के कार्यकाल की सराहना करने का मौका भी नहीं छोड़ा. उन्होंने कहा कि यूपी में जब अखिलेश यादव की सरकार थी तो अलग-अलग क्षेत्र में किए गए विकास कार्यों के लिए यूपी को कई अवार्ड मिले थे और सरकार के कार्यों की सराहना भी की गई थी.