नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश में शुक्रवार की शाम आई तेज आंधी और इसके बाद हुई बारिश ने जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है. आंधी-पानी से सबसे ज्यादा नुकसान आम की फसल को पहुंचा है. एएनआई के अनुसार कानपुर, आगरा समेत कई मंडलों में आंधी के कारण आम की फसल पर प्रतिकूल असर पड़ा है. कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने कहा कि आंधी-बारिश के कारण एक तरफ जहां गेहुं की फसल को नुकसान पहुंचेगा, वहीं आम की फसल के लिए भी यह हानिकारक है. तेज आंधी और बारिश के कारण आम के पेड़ों में लगी बौर खराब हो जाएगी. वहीं जिन पेड़ों में आम की फसल आ गई है, उस पर भी असर पड़ेगा. तेज आंधी के कारण कानपुर में आम की फसल के प्रभावित होने की खबरें भी आई हैं.

दिल्ली में भी शुक्रवार को बिगड़ा था मौसम
देश की राजधानी दिल्‍ली समेत पूरे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में भी शुक्रवार की शाम तेज आंधी के साथ बारिश हुई थी. पिछले कई दिनों से भीषण गर्मी से परेशान दिल्‍ली वालों को आंधी-बारिश से राहत तो मिली, लेकिन तेज आंधी के कारण कई जगह पेड़ गिरने, यातायात बाधित होने और कई इलाकों में बिजली जाने से लोगों को परेशानी भी उठानी पड़ी. मौसम विभाग के अनुसार मौसम में अचानक आए बदलाव के कारण दिल्ली और एनसीआर के इलाके के तापमान में आठ डिग्री तक की गिरावट दर्ज की गई. विभाग का कहना है कि दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में शनिवार को भी तेज हवा के साथ-साथ बारिश हो सकती है. इस कारण इन इलाकों का अधिकतम तापमान 36.6 डिग्री के आसपास बने रहने की उम्मीद है. मौसम विभाग के अनुसार शुक्रवार को दिल्ली और आसपास के इलाके का अधिकतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री अधिक 37 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 22.5 डिग्री दर्ज किया गया था. विभाग का कहना है कि अगले तीन दिनों तक दिल्ली और एनसीआर के इलाके का मौसम ऐसा ही रहने की संभावना है. इस दौरान बादल छाने और रुक-रुककर वर्षा होने का अनुमान है.

बिहार में आंधी-बारिश से 8 लोगों की गई जान
देश के उत्तर-पूर्वी इलाकों में भी पिछले दो-तीन दिनों में मौसम में बदलाव महसूस किया गया है. बिहार में इस महीने की शुरुआत में भी तेज आंधी-बारिश और ओले गिरने की खबरें आई थीं. बिहार के कई शहरों में सामान्य से बड़े आकार के ओले गिरे, जिससे आम की फसल को सर्वाधिक नुकसान पहुंचा है. वहीं, राज्य के कई इलाकों में तेज आंधी-बारिश के कारण पेड़ गिरने की घटनाएं भी हुईं. बीते बुधवार को भी राज्य के अधिकतर इलाकों में आई तेज आंधी के कारण घरों के छप्पर उड़ने और पेड़ गिरने की घटनाएं हुई हैं. वहीं तेज बारिश के दौरान बिजली गिरने से राज्यभर में सात से आठ लोगों के मारे जाने की भी खबर है.