बलिया: लड़की हो या लड़का, अगर इनमें से कोई भी नाबालिग हैं तो उनकी शादी अपराध की श्रेणी में आती है, लेकिन खाप पंचायत के फरमान ने इस क़ानून की धज्जियां उड़ा दीं. लड़का अपनी गर्लफ्रेंड के साथ घूमने गया. वापस लौटने के बाद लड़की पक्ष ने इसे ‘समाज में इज्ज़त’ का मुद्दा बनाकर खाप पंचायत बुलाई. खाप पंचायत में लड़के पक्ष पर दो लाख जुर्माना अन्यथा शादी का प्रस्ताव रखा. लड़का पक्ष शादी के लिए राजी नहीं था, लेकिन दो लाख रुपए जुर्माना नहीं होने के कारण विरोध नहीं कर सके. इसके बाद खाप पंचायत ने दोनों की शादी करा दी गई. दोनों को जयमाल डलवाई गई. लड़के की उम्र सिर्फ 17 साल है, जबकि लड़की की उम्र इससे भी कम 16 साल की बताई जा रही है.

घटना उत्तर प्रदेश के बलिया जिले का है. बलिया के क़स्बा मनियर इलाके में स्थित घाटमपुर गांव के रहने वाला लड़का अपनी गर्लफ्रेंड के साथ बाहर घूमने गया था. वह पार्क आदि जगहों पर गर्लफ्रेंड के साथ घूमा इसके बाद वापस आ गया. इसकी भनक लड़की के घरवालों को लग गई. उन्होंने इसे लेकर लड़के पक्ष से विवाद करना शुरू कर दिया. लड़की पक्ष ने लड़के से शादी करने को कहा, लेकिन लड़का पक्ष इसके लिए राजी नहीं हुआ. मामला खाप पंचायत तक पहुंचा.

ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ में ‘बालिका वधुओं’ के चौंकाने वाले आंकड़े, 2 लाख से ज्यादा है संख्या

दो लाख रुपए जुर्माना नहीं था, इसलिए लड़के पक्ष ने चुनी शादी
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक खाप पंचायत ने बढ़ते विवाद के बीच लड़के को लड़की से शादी करने का फरमान सुनाया. शादी नहीं करने की स्थिति में दो लाख रुपए लड़की पक्ष को देने को कहा. लड़के पक्ष को एक ऑप्शन चुनना था. आर्थिक स्थिति सही नहीं होने के कारण लड़का पक्ष लड़की से शादी के लिए राजी हो गया. दोनों की नवका ब्रह्म नामक स्थान पर ले जाकर शादी करा दी. लोगों के बीच रोज के पहने जाने वाले कपड़ों में ही दोनों ने एक दूसरे को जयमाल डाली. लोगों ने तस्वीरें ली. एक दूसरे को शादी की बधाईयां दीं.

ये भी पढ़ें: अंतरजातीय विवाह करने वालों को बड़ी राहत, शादियों में खाप पंचायतों का दखल गैरकानूनी

पुलिस पहुंची, लेकिन नाबालिगों की शादी पर नहीं दिया दखल
इस पूरे घटनाक्रम के बीच भनक लगने पर पुलिस भी मौके पर पहुँच गई. कस्बा मनियर थाना एसओ शाशेर बहादुर ने बताया कि दोनों पक्षों से सुलह या तहरीर देने को कहा गया. ऐसे में दोनों पर कार्रवाई की जाती. इन मुसीबतों से बचने के लिए दोनों पक्षों ने खाप पंचायत का फैसला मान दोनों की शादी करा दी. मामले में पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई जबकि दोनों नाबालिग हैं. कानून है कि शादी के लिए लड़के की उम्र 21 और लड़की उम्र कम से कम 18 साल होनी चाहिए, जबकि इस मामले में लड़का 17 व लड़की उससे भी कम उम्र की है.