नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश के फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा सीटों पर आगामी 11 मार्च को होने वाले उप चुनावों में जीत को लेकर भाजपा पहले से आश्वस्त है. क्योंकि समाजवादी पार्टी ने साफ कर दिया है कि वह फूलपुर और गोरखपुर, दोनों ही सीटों से अपने चुनाव चिह्न पर मैदान में उतरेगी. वहीं, बहुजन समाज पार्टी इस उप चुनाव से खुद को दूर रख रही है. ऐसे में सपा और कांग्रेस के बीच बिखराव और बसपा की बेरुखी भाजपा के लिए जीत के रास्ते खोलती दिख रही है.

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने इकोनॉमिक टाइम्स से बातचीत में कहा है कि 11 मार्च हमारे लिए ऐतिहासिक तारीख है. क्योंकि इसी दिन पिछले साल भारतीय जनता पार्टी ने प्रदेश में सत्ता संभाली थी. और इसी दिन फूलपुर और गोरखपुर में उपचुनाव हैं. त्रिपाठी ने कहा कि हम इन दोनों सीटों का उपचुनाव जीतने के प्रति आश्वस्त हैं. क्योंकि पिछले कुछ महीनों मे योगी सरकार के शानदार प्रदर्शन, अपराध पर नियंत्रण, किसानों की कर्जमाफी जैसे कामों की बदौलत जनता इन उपचुनावों में हमारा मूल्यांकन करेगी. ये काम चुनाव में जीत के लिए हमारा आधार बनेंगे. त्रिपाठी ने कहा कि गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की साख भाजपा के पक्ष में आधार बनाएगी. वहीं फूलपुर में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य का भरोसा है. क्योंकि 2014 में पहली बार मौर्या ने पार्टी को इस सीट से जीत दिलाई थी.

सपा-कांग्रेस में नहीं है एक राय
यूपी की दोनों लोकसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए पूर्ववर्ती सपा-कांग्रेस गठबंधन में एक राय नहीं बन पाई है. इकोनॉमिक टाइम्स से ही बातचीत में पूर्व सीएम अखिलेश यादव के करीबी और सपा के प्रवक्ता सुनील सिंह यादव ने कहा कि हमारी पार्टी दोनों सीटों पर चुनाव लड़ेगी. अब यह कांग्रेस पर है कि वह हमारा सहयोग करती है या फिर वह भी चुनाव मैदान में उतरती है. सुनील सिंह के इस बयान से यह साफ हो गया है कि कुछ दिनों पहले तक संयुक्त विपक्ष की तरफ से फूलपुर से बसपा नेता मायावती को उम्मीदवार बनाए जाने को लेकर कोई निर्णय नहीं हो सका है. वहीं, दूसरी ओर बसपा के नेता लालजी वर्मा ने भी स्पष्ट कर दिया है कि उनकी पार्टी पहले से ही उपचुनावों को नजरअंदाज करती रही है. वर्मा ने कहा कि उन्हें प्रदेश में अगले महीने होने वाले उपचुनाव में पार्टी की तरफ से लिए गए किसी निर्णय की कोई जानकारी नहीं है. विपक्षी पार्टियों के द्वारा बनाई गई इन परिस्थितियों से आसन्न उपचुनावों को लेकर भाजपा का आत्मविश्वास और बढ़ा हुआ है.

उपचुनाव में जीत को सपा लगा रही जोर
गठबंधन न बनने के बावजूद समाजवादी पार्टी दोनों लोकसभा सीटों पर चुनाव जीतने के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है. खासकर फूलपुर में, जो कि डिप्टी सीएम की सीट रही है, सपा इलाहाबाद में दलित छात्र की हत्या का मुद्दा उठाकर भाजपा को निशाना बना रही है. पार्टी प्रवक्ता सुनील सिंह यादव ने कहा कि केशव प्रसाद मौर्य दलित हैं. प्रदेश के डिप्टी सीएम भी हैं. फिर भी वे ओबीसी और दलितों को सुरक्षा मुहैया करा पाने में नाकाम साबित हुए हैं. फूलपुर में वोटों के ध्रुवीकरण संबंधी सवाल पर यादव ने कहा कि ऐसे में जबकि बसपा चुनाव नहीं लड़ रही, यहां के ओबीसी और अनुसूचित जाति के वोट हमारे पक्ष में जाएंगे. वहीं इसके उलट भाजपा प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने कहा कि हमारी पार्टी के सामने विपक्ष कमजोर है. वह इन चुनावों में टिक ही नहीं पाएगा. त्रिपाठी ने कहा कि पहले हमारे पास सिर्फ केंद्र सरकार की उपलब्धियां थी. अब तो पिछले एक साल योगी सरकार के काम के नतीजे भी हैं. यह हमारी जीत पुख्ता कराएंगे.