नई दिल्ली. गाजियाबाद में देश का सबसे लंबा 10.30 किलोमीटर का एलिवेटेड रोड बनकर तैयार हो गया है. आज यह आम लोगों के लिए खोल दिया गया. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस एलिवेटेड रोड का उद्घाटन किया. इस मौके पर सीएम योगी आदित्यनाथ गाजियाबाद शहर के लिए 1791 करोड़ रुपए से ज्यादा की कई अन्य परियोजनाओं का भी शिलान्यास और उद्घाटन करेंगे. इस एलिवेटेड रोड के जरिए गाजियाबाद के राजनगर एक्सटेंशन से यूपी गेट तक का सफर अब आसान हो जाएगा. वहीं, दिल्ली से मेरठ, देहरादून जाना भी सुलभ होगा. आइए जानते हैं इसके बारे में प्रमुख बातें.

1. गाजियाबाद की डीएम रितु माहेश्वरी और गाजियाबाद विकास प्राधिकरण के अनुसार यह देश का सबसे लंबा (10.30 किमी) एलिवेटेड रोड है. चंडीगढ़, नोएडा और बेंगलुरू शहर में एलिवेटेड रोड की लंबाई गाजियाबाद से कम है.
2. दिल्ली से मेरठ, हरिद्वार और देहरादून की तरफ जाने वाले लाखों वाहन चालकों को इस एलिवेटेड रोड का लाभ मिलेगा. साथ ही इस सड़क के शुरू होने से गाजियाबाद में भी जाम की समस्या कम होगी.
3. एलिवेटेड रोड का निर्माण वर्ष 2014 में शुरू हुआ था. इसके निर्माण में 1248 करोड़ रुपए की लागत आई है.
4. 227 सिंगल पिलरों पर खड़ा यह एलिवेटेड रोड छह लेन का है.

GDA-Elevated-Road
5. इस रोड पर कारों के चलने की स्पीड 80 किलोमीटर प्रति घंटा निर्धारित की गई है.

गाजियाबाद में एलिवेटेड रोड का उद्घाटन किया सीएम योगी ने, ट्रेंड कर रहे अखिलेश यादव

गाजियाबाद में एलिवेटेड रोड का उद्घाटन किया सीएम योगी ने, ट्रेंड कर रहे अखिलेश यादव


6. दिल्ली वालों के लिए इस एलिवेटेड रोड से होकर मेरठ, देहरादून या हरिद्वार जाना अब और आसान हो जाएगा क्योंकि इस रास्ते से होकर दिल्ली से मेरठ की दूरी 5 से 7 किलोमीटर कम हो जाएगी.
7. अभी गाजियाबाद शहर से होकर दिल्ली से मेरठ के बीच की दूरी लगभग 80 किलोमीटर की होती है, वहीं एलिवेटेड रोड के रास्ते यह दूरी 75 किलोमीटर पड़ेगी.
8. दिल्ली से मेरठ आने-जाने वालों के लिए यह एलिवेटेड रोड समय की भी बचत कराएगा. अभी जहां जाम के कारण यूपी गेट से राजनगर एक्सटेंशन तक पहुंचने में 15 से 17 मिनट लगते हैं, एलिवेटेड रोड से होकर जाने में 8 से 10 मिनट लगेंगे.
9. प्रशासन का अनुमान है कि व्यस्त समय में इस एलिवेटेड रोड पर 5 हजार से अधिक वाहन दौड़ेंगे, जिससे गाजियाबाद शहर पर वाहनों का दबाव कम होगा.
10. एलिवेटेड रोड पर हादसे न हों, इसके लिए कहीं भी यू-टर्न नहीं बनाया गया है. तीन जगहों पर डिवाइडर स्लैब बनाए गए हैं.