लखनऊ: यूपी में उप मुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य समेत कई मंत्री जल्‍दबाजी के चक्‍कर में सरकार की फजीहत कराने पर तुले हैं. क्‍योंकि उप मुख्‍यमंत्री समेत कई मंत्रियों ने सात महीने पहले ही ट्वीट कर गुरुनानक जयंती की बधाई दे डाली. जबकि गुरु नानक जयंती कार्तिक पूर्णिमा पर मनाई जाती है. हालांकि बाद में कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंहने ट्वीट कर विकिपीडिया के चलते ऐसी गलती होने की बात कहते हुए माफी मांगी. साथ ही ट्विटर पर से सभी ने अपने जन्‍मदिन वाले ट्वीट को हटा दिया.

बता दें कि यूपी की भाजपा सरकार की ओर से जारी कलेंडर में गुरुनानक जयंती का अवकाश 23 नवंबर को है. इसके बावजूद प्रदेश के उप मुख्‍यमंत्री समेत कई मंत्रियों ने जल्‍दबाजी के चक्‍कर में एक के बाद एक ट्वीट कर गुरुनानक देव की जयंती की बधाईयां देने लगे. उप मुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने ट्वीट कर गुरुनानक जयंती पर कोटि-कोटि नमन किया. इसके बाद सूबे के चिकित्‍सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन ने भी ट्विटर पर बधाईयां दे डाली. उप मुख्‍यमंत्री को बधाईयां देते देख दूसरे मंत्री भी कैसे पीछे रहते, इसलिए उन्‍होंने भी ट्विटर पर बधाईयां देनी शुरू कर दीं. इसके बाद यूपी सरकार के प्रवक्‍ता और चिकित्‍सा मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने भी सिखों के पहले गुरु की जयंती पर कोटि-कोटि कर नमन कर बधाईयां दे दीं.

दिल्‍ली में बैठी भाजपा की सोशल मीडिया टीम ने पकड़ी गलती

यूपी के मंत्रियों की ओर से किए जा रहे ट्वीट को दिल्‍ली में बैठी भाजपा की सोशल मीडिया टीम ने ध्‍यान दिया. इसके बाद यूपी के मंत्रियों को अपनी गलती का अहसास हुआ. इसके बाद यूपी सरकार के प्रवक्‍ता और चिकित्‍सा मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने ट्वीट कर माफी मांगी. उन्‍होंने अपने ट्वीट में कहा कि विकिपीडिया की गलती के चलते ऐसा हुआ.