लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक युवती को लिफ्ट लेकर मदद मांगना भारी पड़ गया. जेई के ड्राईवर ने लिफ्ट देने के बाद फ्लैट में ले जाकर उसके साथ रेप किया. युवती के साथ मारपीट की गई. 100 डायल पर सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने युवती को छुड़ाया. और मौके से ही आरोपी को अरेस्ट कर लिया. मारपीट से घायल हुई युवती को बलरामपुर हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है.

लिफ्ट देकर फ्लैट में ले गया
लखनऊ का हजरतगंज इलाका पॉश एरिया में से एक है. बताया जा रहा है कि यहां के वजीर हसन रोड पर एकता अपार्टमेंट में युवती के साथ रेप कर बंधक बना लिया गया. पीड़िता ने बताया कि उसे सिंचाई विभाग के जेई के ड्राइवर ने कार में लिफ्ट दी. इसके बाद वह उसे बहला फुसलाकर अपने वजीर हसन रोड पर स्थित एकता अपार्टमेंट में मौजूद फ्लैट पर ले गया. यहां कुछ देर में ही युवक ने युवती से बदसुलूकी शुरू कर दी. विरोध करने पर उसके साथ मारपीट की और इसके बाद उसके साथ रेप किया. रात करीब एक बजे युवती ने मौक़ा पाकर डायल 100 पर पुलिस को सूचना दी. घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने मौके से युवती को छुड़ाया. यहां से आरोपी को भी अरेस्ट कर लिया.

ये भी पढ़ें: यूपी: एटा में शादी समारोह में गई 8 साल की बच्ची से दरिंदगी, रेप के बाद परिजनों के सामने ही गला दबाकर मार डाला

मारपीट भी की, हॉस्पिटल में एडमिट युवती
पुलिस ने युवती को बलरामपुर हॉस्पिटल में भर्ती करवाया. यहां उसका इलाज किया जा रहा है. हजरतगंज पुलिस के अनुसार घटना जेई के ड्राइवर द्वारा अंजाम दी गई है. जहां घटना हुई वो फ्लैट जेई का ही है. ड्राइवर भी इसी फ्लैट में रहता है. पुलिस ने बताया कि आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है.

ये भी पढ़ें: इटावा में दो नाबालिग सगी बहनों की गोली मारकर हत्या, आस-पास पड़े मिले शव, मौके से कारतूस बरामद

लगातार सामने आ रही रेप की घटनाएं
बता दें कि उत्तर प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों से लगातार रेप की घटनाएं सामने आ रही हैं. आज (17 अप्रैल) ही एटा जिले में एक आठ साल की बच्ची की रेप के बाद गला दबाकर हत्या कर दी गई. आरोपी ने परिजनों के सामने ही गला दबाकर बच्ची को मार दिया. इटावा में आज ही इटावा जिले के बसरेहर में दो सगी नाबालिग बहनों की गोली मारकर हत्या कर दी गई. इनकी भी रेप की आशंका जताई जा रही है. इन दोनों बहनों को क्यों मारा गया, अब तक पता नहीं चल पाया है. इससे पहले 8 अप्रैल को सामने आया उन्नाव रेप केस की चर्चा राष्ट्रीय स्तर पर रही. प्रदेश सरकार की क़ानून व्यवस्था नहीं संभाल पाने को लेकर आलोचना हो रही है.