लखनऊ: राज्य सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद प्रदेश के 14 क्षेत्रों में बिजली चोरी कम होने के बजाय लगातार बढ़ रही है. यूपी प्रदेश देश में बिजली चोरी के मामले में सबसे आगे है. पूरे देश में यूपी इस मामले में पहले नंबर पर है. इतना ही नहीं यूपी के यूपी के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा का गृह जिला मथुरा बिजली चोरी के मामले में प्रदेश में दूसरे नंबर पर है. सिद्धार्थनगर में 79 व शामली के 66 फ़ीसदी घरों में मीटर तक नहीं लगे हैं. केंद्रीय बिजली राज्यमंत्री आरके सिंह ने प्रमुख सचिव ऊर्जा के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान बिजली चोरी पर नाराजगी जाहिर करते हुए ऊर्जा विभाग के प्रमुख सचिव को फटकार लगाई है.

150 शहरों में यूपी के 48 शहर
केंद्र सरकार द्वारा की गई समीक्षा में पता चला कि देश के 150 वितरण क्षेत्र ऐसे हैं जहां लाइन हानियां 40 फीसदी से ज्यादा हैं. इसमें यूपी के ही 48 शहर शामिल है. यूपी में मथुरा ऐसा शहर है जो प्रदेश में बिजली चोरी के मामले में दूसरे नंबर पर है. बता दें कि मथुरा यूपी के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा का गृह जिला है. इसके बाद भी मथुरा बिजली चोरी में यूपी में दूसरे नंबर पर है. जानकारी के मुताबिक, सिद्धार्थनगर में 79 और शामली के 66 फीसदी घरों में अभी तक बिजला के मीटर नहीं लगे हैं. इस वजह से बिजली चोरी को रोकने में बिजली विभाग को कड़ी मशक्कत करना पड़ रहा है.

ये भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश: बड़े शहरों में हो रही है 70 प्रतिशत तक बिजली चोरी

केंद्रीय मंत्री ने अफसरों की लगाई क्लास
केंद्रीय मंत्री ने यूपी में चल रही सुधार प्रक्रिया पर भी सवाल उठाए. कॉन्फ्रेंसिंग के बाद प्रमुख सचिव ऊर्जा ने संबंधित क्षेत्रों के प्रबंध निदेशकों से जवाब-तलब किया है. प्रमुख सचिव ने यूपी के अफसरों की क्लास लगाते हुए कार्रवाई के निर्देश दिए हैं. उन्होंने साफ़ कहा कि अगर बिजली चोरी नहीं रुकी तो संबंधित अधिकारियों पर कार्रवाई की जाएगी.

70 प्रतिशत बिजली चोरी बड़े शहरों में, ऊर्जा मंत्री को है ये पता
पिछले साल मथुरा में ही उत्तर प्रदेश के ऊर्जामंत्री श्रीकांत ने कहा था कि 70 प्रतिशत बिजली चोरी राज्य के बड़े शहरों में हो रही है. उन्होंने बताया था कि प्रदेश के तमाम फीडरों पर कराई गई बिजली चोरी की जांच के बाद यह पता लगा कि राज्य के बड़े शहरों में सबसे अधिक बिजली चोरी होती है. इनमें मथुरा जनपद भी शामिल है, क्योंकि यहां के 30 फीडर ऐसे पाए गए हैं जहां सर्वाधिक बिजली चोरी हो रही है.

कानपुर-लखनऊ सबसे ज्यादा छति वाले शहर
ऊर्जा मंत्री ने बताया था कि अधिकतम पारेषण क्षति वाले जनपदों में न केवल लखनऊ, वाराणसी, गाजियाबाद, आजमगढ़, गोरखपुर, इलाहाबाद, मेरठ, सहारनपुर, आगरा, मथुरा, अलीगढ़, बरेली, मुरादाबाद, कानपुर, फैजाबाद, फिरोजाबाद, देवीपाटन आदि शामिल हैं बल्कि शामली, बागपत, जयप्रकाश नगर, संभल, एटा, मैनपुरी, हाथरस आदि अपेक्षाकृत छोटे शहरों में भी अच्छी-खासी बिजली चोरी की घटनाएं होती हैं.