नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के बागपत जिले में एक पंचायत ने लड़कियों के साथ-साथ लड़कों के भी स्कूल में मोबाइल फोन ले जाने पर पाबंदी लगा दी है. बागपत के आर्य विद्यालय इंटर कालेज तेड़ा में सतगामा क्षेत्र के करीब आधा दर्जन गांवों के लोगों की कल शाम हुई पंचायत में निर्णय लिया गया है कि अब स्कूलों में लड़कियों के साथ लड़के भी मोबाइल नहीं रख सकेंगे.

इसके अलावा कन्या भ्रूण हत्या रोकने के लिए कठोर कदम उठाए जाने की मांग की. तय किया गया कि जो भी व्यक्ति पंचायत के निर्णयों के विरुद्ध काम करेगा, उसका सामाजिक बहिष्कार होगा और कानूनी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी.

पंचायत के अध्यक्ष अमर सिंह ने लिए गए निर्णयों के बारे में आज बताया कि पंचायत के फैसले के मुताबिक स्कूल-कॉलेज में छात्राओं के साथ-साथ छात्र भी मोबाइल नहीं रख सकेंगे. अगर इसके बाद भी किसी के पास मोबाइल मिलता है तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई कराई जाएगी.

सिंह ने बताया कि पंचायत में वक्ताओं ने कहा कि इस समय क्षेत्र में लिंगानुपात में कमी आ रही है और कन्या भ्रूण हत्या इसका प्रमुख कारण है. इसे रोकने के लिए जागरूकता अभियान चलाने और ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ के सिद्धांत को मानने पर जोर दिया गया.

उन्होंने बताया कि पंचायत में तय किया गया कि अगर कोई भी व्यक्ति कन्या भ्रूण हत्या में लिप्त पाया गया तो उसका सामाजिक बहिष्कार होगा. इतना ही नहीं उस व्यक्ति के खिलाफ कानूनी कार्यवाही भी अमल में लाई जाएगी.