लखनऊ: यूपी के बरेली जिले में शराबबंदी को लेकर नट समाज ने सराहनीय पहल की है. नट समाज के लोगों ने अपने कुलदेवता को शराब के बजाए कोल्ड ड्रिंक चढ़ाने का फैसला किया है. ऐसा करके नट समाज की महिलाओं ने सैकड़ों साल पुरानी शराब चढ़ाने की परंपरा को बदल दिया है. महिलाओं की बुधवार को हुई पंचायत में तय हुआ कि गुरुवार से समाज का कोई भी पुरुष शराब नहीं पीयेगा. अगर किसी के घर में शराब मिली या फिर कोई व्यक्ति शराब पीते हुए पकड़ा गया तो उस पर 500 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा.

बरेली जिले के शेरगढ़ ब्लाक से सटे मानपुर पूर्वी गांव में नट समाज के लोग सालों से रह रहे हैं. समाज के पुरुष शादियों में बैंड-बाजा बजाते हैं. इसी से उनका परिवार चलता है. नट बिरादरी अपने कुलदेवता को प्रसाद के रूप में सालों से शराब चढ़ाती आई है . इसके चलते समाज के पुरुषों में शराब पीने का चलन तेजी से फ़ैल गया. शराब की लत लगने के बाद पुरुष अक्सर महिलाओं और बच्चों को मारते-पीटते हैं.

पढ़ें: बिहार की तरह यूपी में हो पूर्ण शराबबंदी, बड़े जन आंदोलन की तैयारी में कैबिनेट मंत्री

घर तबाह होते देख महिलाओं ने की पहल

नट समाज की महिलाओं ने शराब से घर तबाह होते देख एकजुट होने का फैसला किया. इसके लिए महिलाओं ने सभी पुरुषों से शराब छुड़ाने का संकल्प लिया. दुर्गा स्वयं सहायता समूह की अध्यक्ष सीमा भारती की अगुआई में महिलाओं ने गांव में पंचायत की. पंचायत में हर घर की महिलाएं और बेटियां पहुंची. वहां सभी पुरुषों को बुलाकर जीवन में कभी शराब नहीं पीने का संकल्प दिलाया गया.

कुलदेवता को अब चढ़ेगा कोल्ड ड्रिंक

महिलाओं ने कहा कि वह कुलदेवता को शराब चढ़ाने की सैकड़ों वर्ष पुरानी परंपरा को भी आज बंद करती हैं. अब किसी भी घर में कुलदेवता को शराब नहीं चढ़ाई जाएगी. शराब से गांव में कई लोगों की जान जा चुकी है. इसलिए अब शराब की जगह कोल्ड ड्रिंक चढ़ाई जाएगी. महिलाओं की पंचायत में इस प्रस्ताव पर गांव के पुरुषों ने हामी भर दी.

गांव में शराब के विरोध में निकली रैली

शराब का बहिष्कार करने के बाद महिलाओं ने गांव में शराब के विरोध में रैली निकाली. उन्होंने घर-घर जाकर लोगों को पंचायत के फैसले से अवगत कराया. अभियान की अगुआई कर रही सीमा भारती और हसमुखी ने कहा कि वह पूरे जिले में नट बिरादरी के बीच शराब विरोधी अभियान चलाएंगी. बरेली के बाद यह अभियान दूसरे जिलों में चलेगा.

पढ़ें: बिहार में शराबबंदी के दो साल पूरे, नीतीश ने कहा- उस समय समर्थन करने वाले अब विरोध में खड़े हैं