बरेली. उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में महिलाओं ने बढ़ते अपराध के खिलाफ आवाज बुलंद की. बरेली की सड़कों पर महिलाओं ने उन्नाव में विधायक, कठुआ में गैंगरेप व अन्य शर्मनाक घटनाओं के विरोध में एक रैली निकाली. इस दौरान महिलाओं ने नारे लगाए कि ‘जो नारी हित की बात करेगा, वही देश पर राज करेगा’. साथ ही महिलाओं ने कहा कि अगर कानून व्यवस्था दरिंदों को सजा दे पाने में असमर्थ है तो वह ऐसे लोगों को उन्‍हें सौंप देें.

यूपी समेत देश के कई हिस्‍सों में महिला अपराध की रोजाना खबरें आ रहीं हैं. यूपी में चाहे वह भाजपा विधायक पर रेप का मामला हो, या प्रदेश के अन्‍य हिस्‍सों में हो रहीं रेप की घटनाएं हों, सबके खिलाफ महिलाओं ने आक्रोश प्रकट किया. महिलाओं ने सरकार और पुलिस प्रशासन को जगाने के लिए रैली निकाली. महिलाओं ने उन्‍नाव रेप मामले और कठुआ में गैंगरेप मामले के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. इस दौरान महिलाओं ने दोनों घटनाओं को देश के लिए कलंक बताया. महिला वक्‍ताओं ने कहा कि दरिंदगी की दोनों घटनाओं ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है. देश में मासूमों के साथ दुष्कर्म के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. इसके बावजूद सरकार और पुलिस प्रशासन कड़ी कार्रवाई से बचने की कोशिश कर रहा है, जिससे समाज को शर्मसार होना पड़ रहा है.

पढ़ें: महिलाओं के खिलाफ अपराध से सिर झुक जाता है :नरेंद्र मोदी

Women protest in Bareilly

नारी विश्‍वास भारती संस्‍था ने उठाई आवाज
नारी विश्वास भारती संस्था ने बरेली के चौकी चौराहे पर रैली निकालकर विरोध प्रदर्शन किया. हाथों में स्लोगन लिखी तख्तियां लेकर महिलाओं ने कहा कि न्याय पालिका मासूम बच्चियों, महिलाओं के साथ दुराचार, शोषण आदि जैसे मामलों में तुरंत फांसी की सजा दे. जिससे भविष्य में कोई भी इस तरह का दुष्कर्म करने का प्रयास न करे. महिलाओं ने कहा कि अगर कानून व्ययवस्था इस तरह के दूषित मानसिकता वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने में असमर्थ है तो वह ऐसे लोगों को उन्‍हें सौंप दे. कहा कि महिलाओं में बसी माँ भगवती उन दुराचारियों को ऐसी सजा देगी, जो कि एक इतिहास बन जाएगा. महिलाओं ने सरकार से महिला सुरक्षा गारंटी और दुराचारियों को फांसी देने की मांग की.

पढ़ें: आधी आबादी के लिए पुलिस बल में सिर्फ 7.28 फीसदी महिलाएं

महिलाओं ने यह लगाए नारे
महिलाओं ने रैली निकालने के दौरान हाथों में तख्तियों पर स्लोगन लिखे थे. उसमें कहा गया कि ‘जो नारी हित की बात करेगा, वही देश पर राज करेगा’. ‘जो नारी से टकरायेगा, चूर-चूर हो जायेगा’, ‘देश की आधी आबादी के लिए क्रांति के लिए मजबूर मत करो, ‘जाति धर्म से ऊपर आओ, ‘दुराचारियों को फांसी दो’, आदि स्लोगन लिखे गए थे.