लखनऊ. उन्नाव रेप केस में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने स्वत: संज्ञान लिया है. इसके साथ ही उसने सुनवाई की तारीख भी मुकर्रकर कर दिया है. गुरुवार को कोर्ट इस मामले में सुनवाई करेगा. दूसरी तरफ इस मामले की जांज के लिए गठित एसआईटी टीम का नेतृत्व कर रहे लखनऊ जोन के एडीजी राजीव कृष्णा पीड़िता के उन्नाव स्थित घर पर पहुंचे.

उन्नाव में जरूरी जांच करने के बाद एडीजी राजीव कृष्णा ने कहा, हम यहां जांच करने आए थे. मैं आज शाम तक इसकी रिपोर्ट सरकार को सौंप दूंगा. केस में हर पहलू पर जांच की जा रही है. एसआईटी पर किसी तरह का दबाव नहीं है. हम पूरी तरह से स्वतंत्रता के साथ काम कर रहे हैं.

राजीव कृष्णा ने कहा, पीड़ित परिवार को पूरी सुरक्षा दी जाएगी. उनके कुछ रिश्तेदार दिल्ली में रहते हैं. वे दिल्ली रहना चाहें या उन्नाव में रहना चाहें ये उनका निर्णय है. उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी हमारी है और इस हम निभा रहे हैं.

बता दें कि इससे पहले विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी संगीता सेंगर सामने आईं. उन्होंने अपने पति का बचाव करते हुए कहा कि वह निर्दोष हैं. अगर वह दोषी साबित होते हैं तो पूरा परिवार अपनी जान दे देगा. जिस तरह से सबूतों को छुपाया जा रहा है, यह सही नहीं है, हमें न्याय चाहिए. उन्होंने कहा कि यहां एक राजनीतिक उद्देश्य साफतौर पर दिख रहा है. मेरे पति और उस पीड़ित लड़की का नार्को टेस्ट होना चाहिए.

डीजीपी ओपी सिंह से मुलाकात के बाद सेंगर की पत्नी ने कहा, जब से यह मामला सामने आया है तब से हमारी बेटियां ट्रामा में हैं. हमें मानसिक तौर पर प्रताड़ित किया जा रहा है. अभी तक कोई सबूत सामने नहीं आया है, लेकिन मेरे पति को रेपिस्ट साबित किया जा रहा है.

वहीं रेप पीड़िता ने मुख्यमंत्री आदित्यनाथ से अपील की है कि उसे न्याय दिलाया जाए. डीएम ने मुझे होटल के रूम में कैद कर दिया था. यहां तक मुझे पीने के लिए पानी तक नहीं दिया गया था. मैं सिर्फ इतना चाहती हूं कि दोषी को सजा मिले.