जहां पर चाह है वहीं राह है। किसी ने सही कहा है अगर मन में कुछ कर गुजरने का जज्बा हो और दिल में सपना तो वह हकीकत में जरुर तब्दील होती है। कुछ लोग ऐसे होते है जो शून्य से शुरू होते हैं और फिर दुनिया के लिए एक आदर्श बनकर सामने आते हैं। कई बार हमने सुना है की मजदूर का लड़का इंजीनियर बन गया तो कभी टैक्सी ड्राईवर का लड़का आईपीएस अधिकारी बन गया। इस तरह की खबर पढ़ने के बाद मन में उत्साह अपने जागने लगती है और फिर कुछ कर गुजरने का मन करता है।

जरा आप भी बेंगलुरु के पास महादेवपुर के रहने वाले टैंकर ड्राइवर बालाकृष्ण मिलो, इन्होने जिन्दगी की शुरुवात टैंकर ड्राइवर के तौर पर की लेकिन मन में कुछ कर गुजरने का जज्बा हमेशा से रहा था। फिर क्या उसके बाद तो बॉडी बिल्डिंग की दुनिया में कदम रखा और उसके बाद इन्होने देश का नाम चमका दिया है। आपको जानकर हैरानी होगी कि बालाकृष्ण 48 बार मिस्टर कर्नाटक टाइटल और 9 बार मिस्टर इंडिया का खिताब जीत चुके हैं। यह भी देखें: युवक का महिला ने किया बलात्कार: देखें वीडियो

 बालकृष्ण यही नही रुके उन्होंने मिस्टर एशिया अवॉर्ड को भी अपने नाम कर चुके हैं। लेकिन सबसे बड़ी कामयाबी तब मिली जब जर्मनी के हैमबर्ग में हुए मिस्टर यूनिवर्स बॉडी बिल्डिंग कार्यक्रम में दुसरे नंबर पर रहे। आज बालकृष्ण अपनी अगली तैयरी में हैं और मिस्टर ओलंपिया का किताब अपने नाम करना चाहतें हैं।