नई दिल्ली| चीन और भारत के बीच बॉर्डर समस्या के कारण कई हफ्तों से लगातार तनाव के हालात बने हुए हैं. दोनों तरफ से एक के बाद एक ऐसे बयान सामने आ रहे हैं जिससे अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं है कि हालात सामान्य नहीं है. अब एक बार फिर चीन की मीडिया ने साफ तौर पर धमकी भरे शब्दों में लिखा है कि चीन किसी भी तरीके के टकराव के लिए तैयार है, डोकलाम के मुद्दे पर चीन युद्ध के लिए जाने से भी पीछे नहीं हटेगा. इतना ही नहीं, चीनी मीडिया का ये भी कहना है कि अगर ऐसा हुआ तो भारत को इस टकराव का हर्जाना भुगतना पड़ सकता है.

चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स में लेख में कहा गया है कि 1962 के बाद भारत पर लगातार भड़काने करने का आरोप लगाया है. इस लेख में लिखा गया है कि चीन को भविष्य में होने वाले सभी तरह के टकरावों के लिए तैयार रहना चाहिए. चीन को आगे बढ़कर एलएसी पर टकराव का मुकाबला करना चाहिए.  चीन को बेझिझक डॉकलाम एरिया में निर्माण बढ़ाना चाहिए इसके साथ ही अपनी सेना की संख्या भी वहां पर बढ़ानी चाहिए.

इस लेख में लेख में लिखा है कि एक संप्रभु देश होने के नाते यह चीन का हक है. चीन भारत के साथ किसी भी तरह के टकराव होने से नहीं डरता है, इसी प्रकार चीन किसी भी तरह के युद्ध से भी नहीं डरता है और खुद को इसके लिए तैयार करता है.

ग्लोबल टाइम्स में लिखा गया है कि अभी भी दोनों देशों में राजनयिक बातचीत चल रही है, लेकिन सभी तरह के संबंधों की भारत की ओर से जहर दिया गया है. अगर भारत बॉर्डर पर अपनी सेना  को मजबूत करता है तो चीन भी ऐसा ही करेगा. अगर भारत इकॉनोमिक और सैन्य लेवल पर संख्या की प्रतियोगिता करना चाहता है तो चीन उसके लिए तैयार है.