नई दिल्ली: हार्ले डेविडसन और ट्रायम्फ जैसी विदेश हाई-एंड बाइक्स भारत में सस्ती होने जा रही हैं. सरकार ने इनके आयात पर कस्टम ड्यूटी घटाकर 50% कर दी है. अभी तक 800 cc से कम इंजन क्षमता वाली मोटर साइिकल के आयात पर 60% ड्यूटी लगती थी. 800 cc या इससे ज्यादा इंजन क्षमता वाली मोटर साइकिल पर 75% इंपोर्ट ड्यूटी थी.

ट्रंप ने मोदी पर साधा निशाना

हालांकि कस्टम ड्यूटी घटाने का ट्रंप पर कोई असर नहीं हुआ. उन्‍होंने हार्ले डेविडसन मोटरसाइकिल पर ऊंची इम्‍पोर्ट ड्यूटी लगाने के लिए मोदी सरकार को निशाने पर लिया है. उन्होंने मोदी सरकार पर दबाव बढ़ाते हुए कहा कि इम्‍पोर्ट ड्यूटी को 75 फीसदी से 50 फीसदी करने का यह निर्णय नाकाफी है.

ट्रंप ने कहा कि चूंकि अमेरिका, भारत से आने वाली बाइकों पर कोई आयात शुल्‍क नहीं लगाता है. ऐसे में भारत को भी अमेरिकी मोटर साइकिलों पर कोई शुल्‍क नहीं लगाना चाहिए. ट्रंप ने स्‍टील इंडस्‍ट्री पर कांग्रेस के सदस्‍यों के साथ बातचीत में भारत को लगे हाथों धमकी भी दे डाली. उन्‍होंने कहा कि भारत अगर इम्‍पोर्ट ड्यूटी कम नहीं करता है तो अमेरिका में इम्‍पोर्ट होने वाली भारतीय बाइकों पर भी टैरिफ बढ़ा दिया जाएगा.

ये महंगी बाइक्स हो जाएंगी सस्ती

इम्पोर्ट ड्यूटी घटने से ट्रायंम्फ, हार्ले-डेविडसन, BMW मोटोर्रेड, MV अगस्ता, कावासाकी, डुकाटी और इंडियन की हाई-एंड परफॉर्मेंस बाइक्स सस्ती हो जाएंगी. विशेषज्ञों का मानना है कि इन मोटरसाइकिलों के आयात शुल्क दरों में बदलाव इंडस्ट्री की मांग को देखते हुए लिया गया है.

नोटिफिकेशन के मुताबिक सीकेडी किट के रूप में इंजन, गियर बाक्स या ट्रांसमिशन सिस्टम के लिए इंपोर्ट ड्यूटी को घटाकर 25 फीसदी किया गया है. असेंबलिंग से पहले के इन कलपुर्जों पर अब तक 30 फीसदी सीमा शुल्क लगता था.