वॉशिंगटन: अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने शुक्रवार को कहा कि चीन के महत्वाकांक्षी ‘बेल्ट एंड रोड’ परियोजना से दूसरे देशों के लिए ऋण का बोझ नहीं संभाल पाने का जोखिम बढ़ सकता है. हालांकि, आईएमएफ ने उम्मीद जताई है कि इससे स्थानीय तालमेल को भी बढ़ावा मिलेगा. आईएमएफ के प्रवक्ता गैरी राइस ने संवाददाता सम्मेलन में परियोजना के बारे में कहा कि इसमें संभावनाओं के साथ ही आशंकाएं भी अंतर्निहित हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘बेल्ट एंड रोड परियोजना काफी महत्वपूर्ण पहल है और इससे व्यापार, निवेश और वित्तपोषण समेत अन्य क्षेत्रों में क्षेत्रीय भागीदारी को बढ़ावा मिल सकता है. यह आधारभूत संरचना, देशों के आपसी संपर्क आदि में भी महत्वपूर्ण योगदान दे सकता है जिससे व्यापार एवं वृद्धि को बढ़ावा मिलेगा.’’

यह भी पढ़ें: अमेरिका का वीजा पाना हुआ कठिन, अब देनी होगी सोशल साइट्स सहित ये जानकारियां

उन्होंने आगे कहा कि इस तरह की अन्य महत्वपूर्ण परियोजनाओं की तरह इसमें भी जोखिम बढ़ सकते हैं. इन जोखिमों में अन्य देशों के लिए ऋण का भार संभाले जाने की क्षमता से अधिक हो जाना शामिल है. इसके अलावा चीन के लिए भी ऋण जोखिम समेत अन्य जोखिम पैदा हो सकते हैं.

राइस ने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘संतुलन कायम करना महत्वपूर्ण है. निश्चित ही हमें संभावनाओं के साथ आशंकाएं भी दिख रही हैं.’’ उन्होंने कहा, ये सब इस बात पर निर्भर करता है कि अन्य देशों के लिए ऋण का भार संभाले जाने से अधिक हो जाने का खतरा टालने के लिए परियोजना का क्रियान्वयन किस तरह से किया जाता है और निजी क्षेत्र की कैसी भागीदारी होती है. राइस ने कहा, ‘‘इससे जोखिम कम होंगे और लाभ बढ़ेंगे.’’

यह भी पढ़ें : एक दूसरे की तबाही के लिए तैयार रहते थे ये देश, 80 दिन में बदली तस्वीर

उल्लेखनीय है कि आईएमएफ की प्रबंध निदेशक क्रिस्टिन लगार्ड अगले महीने की शुरुआत में चीन का दौरा करने वाली हैं. वह बेल्ट एंड रोड परियोजना पर पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना तथा आईएमएफ के संयुक्त सम्मेलन में भाग लेंगी.