नई दिल्ली: ब्रिटेन की राजधानी लंदन की ट्यूब ट्रेन में शुक्रवार को हुए ब्लास्ट की जिम्मेदारी आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट(ISIS) ने ली है. लंदन स्थित अंडरग्राउंड रेलवे स्टेशन पर  बाल्टी में बम रखकर इस धमाके को अंजाम दिया गया गया था. इस हमले में 29 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे.

ट्रंप ने हमले में घायल लोगों के प्रति सहानुभूति प्रकट की

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे को लंदन आतंकी हमले के बाद फोन किया और दुनियाभर में हमलों को रोकने के लिए ब्रिटेन के साथ करीबी सहयोग जारी रखने की प्रतिबद्धता जताई. व्हाइस हाउस ने एक बयान में कहा कि टेलीफोन पर बातचीत के दौरान, ट्रंप ने हमले में घायल लोगों के प्रति सहानुभूति एवं संवेदना प्रकट की.

धमाके के लिए IED का इस्तेमाल 

लंदन ट्यूब में धमाका उस वक्त हुआ जब ट्रेन के पार्संस ग्रीन स्टेशन से गुजर रही थी. अचानक एक बाल्टी में धमाका हुआ और पूरी ट्रेन में धुआं भर गया.  जांच में पता लगा कि धमाके के लिए IED का इस्तेमाल किया गया था. ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टरीजा में ने इस हमले की कड़ी निंदा करते हुए कहा था कि हमले का मकसद बड़ा नुकसान करना था.

लंदन ऐंबुलेंस ने जानकारी दी है कि इस हमले में अबतक 29 लोग घायल हुए हैं, जिनका इलाज अस्पताल में चल रहा है. पुलिस ने बताया कि इनमें से अधिकतर लोग झुलस गए हैं.