लंदन: पंजाब की आखिरी सिख रानी, महारानी जिंद कौर के संग्रह से सोने की एक जोड़ी कान की बालियों को इस महीने के अंत में इस्लामी और भारतीय बिक्री के हिस्से के तौर पर लंदन में नीलाम किया जाएगा. महाराजा रंजीत सिंह की सबसे छोटी पत्नी की यह बालियां 24 अप्रैल को बॉनहम्स में नीलामी के लिए रखे जाने के दौरान 20,000 हजार से 30,000 पाउंड (18.5 लाख से 27.8 लाख रुपए) के बीच बिक सकती हैं.

जिंद कौर, रंजीत सिंह की एकमात्र ऐसी पत्नी थीं जिन्होंने उनकी मौत पर खुद को सती प्रथा के हवाले नहीं किया था. अग्रेजों द्वारा कब्जा किए जाने से पहले राजयुग के दौरान वह पंजाब की शासक बनीं थीं. कई सालों बाद उनके इंग्लैंड जाने के दौरान उनके आभूषण उन्हें सौंप दिए गए थे.

बॉनहम्स के इस्लामी और भारतीय कला के प्रमुख ओलिवर व्हाइट ने कहा, ”ये सोने की बालियां अपने आप में बहुत खूबसूरत हैं. साथ ही वह एक निर्भीक महिला की याद दिलाती हैं जिसने अपने साम्राज्य की हार, उत्पीड़न और दुख को गरिमा और साहस के साथ सहा था”