इस्लामाबादः पाकिस्तान ने एक बार फिर वैलेंटाइन डे सेलिब्रेशन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. यहां पर इसको लेकर मीडिया कवरेज पर भी रोक है. ऐसा इस्लामाबाद हाईकोर्ट के उस फैसले के बाद हुआ है जिसमें कहा गया है कि वैलेंटाइन डे मनाना गैर इस्लामिक है. हमारे सहयोगी चैनल वियॉन के मुताबिक हाईकोर्ट के फैसले को प्रभावी तरीके से लागू कराने के लिए पाकिस्तान के इलेक्ट्रॉनिक मीडिया रेग्युलेटरी ऑथोरिटी ने टीवी और रेडियो प्रसारकों को दिशानिर्देश जारी किया है.

ऑथोरिटी ने कहा है कि सभी इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंट मीडिया को यह निर्देश दिया जाता है कि वे यह सुनिश्चित करें कि वैलेंटाइन डे सेलिब्रेशन और उसके प्रमोशन के बारे में कुछ भी रिपोर्ट ना किया जाए. आधिकारिक तौर पर किसी भी सार्वजनिक स्थल पर कोई भी इवेंट नहीं होगा. सभी टीवी चैनलों को निर्देश दिया जाता है कि वे वैलेंटाइन डे के प्रमोशन को रोकें. हाईकोर्ट का यह फैसला विज्ञापनों और सेल्स से जुड़ी कंपनियों पर भी लागू होता है. कंपनियां वैलेंटाइन डे के साथ कोई विज्ञापन या प्रोमोशन ऑफर नहीं पेश कर सकती हैं.

पिछले साल भी थी रोक
दरअसल, इस्लामाबाद हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल की गई थी जिसमें कहा गया था कि वैलेंटाइन डे समाज में अनैतिकता, नग्नता और अभद्रता को बढ़ावा दे रहा है. इसके बाद अदालत ने वैलेंटाइन डे सेलिब्रेशन को गैर इस्लामिक करार दिया. अदालत इसे सरकारी ऑफिसों और सार्वजनिक स्थलों पर भी मनाने पर रोक लगा चुका है. अदालत के इस फैसले का देश भर में कारोबार पर भी असर पड़ेगा. पिछले साल भी इसी तरह की रोक लगाई गई थी. वैलेंटाइन डे से जुड़ी चीजें जैसे फूल और अन्य गिफ्ट आइटम बेचने वाले दुकानदारों ने कहा है कि अदालत से इस फैसले के बाद उनकी बिक्री में भारी गिरावट आई है.

इतना ही नहीं पाकिस्तान के राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने भी देश के नागिरकों को चेताया है कि वे वैलेंटाइन डे सेलिब्रेशन से दूर रहें क्योंकि यह मुस्लिम परंपरा का हिस्सा नहीं है. यह एक पश्चिमी परंपरा है, जो इस्लाम में वाजिब नहीं है. हालांकि, अदालत से इस फैसले का सोशल मीडिया पर विरोध भी हो रहा है. ट्विटर पर कुछ लोगों ने ट्वीट कर इस पर ऐतराज जताया है.