नई दिल्ली: पाकिस्तानी सेना ने आज कहा कि भारत को किसी तरह का दुस्साहस नहीं करना चाहिए और देश के परमाणु हथियारों का खास मकसद पूर्व से आने वाले किसी भी खतरे को नाकाम करना है. पाकिस्तानी सेना की यह टिप्पणी भारतीय सेना के प्रमुख जनरल बिपिन रावत द्वारा हाल में की गयी उस टिप्पणी के बाद आयी है, जिसमें उन्होंने कहा था कि सेना पाकिस्तान के परमाणु हथियारों के झांसे का जवाब देने के लिए और सरकार के कहने पर किसी भी अभियान के लिए सीमा पार करने को तैयार है.

पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने भारत को किसी तरह का दुस्साहस करने के खिलाफ आगाह किया. उन्होंने सरकारी चैनल पीटीवी से कहा, यह उनको चुनना है. अगर वे हमारा संकल्प देखना चाहते हैं तो कोशिशें कर खुद देख लें. गफूर ने कहा कि पाकिस्तान के पास खासतौर पर पूर्व से आने वाले किसी भी खतरे से निपटने के लिए विश्वसनीय परमाणु क्षमता है.

प्रवक्ता ने कहा, लेकिन हमें लगता है कि यह कोई विेकल्प नहीं है, बल्कि प्रतिरोधक क्षमता का हथियार है. उन्हें हमारी विश्वसनीय परमाणु हथियार प्रतिरोधक क्षमता रोक रही है क्योंकि दो परमाणु शक्ति संपन्न देशों के बीच युद्ध की गुंजाइश नहीं है.

बता दें कि इससे पहले भारत के सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने बुधवार को कहा था कि उनकी फौज़ पाकिस्तान की ‘परमाणु धमकी’ से निपटने के लिए तैयार है और अगर सरकार आदेश दे तो भारतीय सेना पाकिस्तान की सीमा पार करने में संकोच नहीं करेगी.

जनरल रावत ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था, हम पाकिस्तान की धमकी (परमाणु) का जवाब देंगे. अगर हमें सचमुच पाकिस्तानियों से मुक़ाबला करना पड़ा और अगर हमें ऐसा करने के लिए कहा गया तो हम ये नहीं कहेंगे कि हम इसलिए सीमा पार नहीं कर सकते हैं क्योंकि उनके पास परमाणु हथियार हैं. हम उनकी परमाणु धमकी का जवाब देंगे.