पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को वहां की सुप्रीम कोर्ट ने अयोग्य करार दिया है. चुनाव के नामांकन में गलत जानकारी देने के आरोप में उनपर ये कार्यवाही हुई है. कोर्ट ने नवाज शरीफ पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया है. अब वह न तो अपनी पार्टी के अध्यक्ष रहेंगे और न ही कोई चुनाव लड़ पाएंगे. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि किसी शख्स को संविधान की धारा 62 (1) के तहत अयोग्य करा दिय गया तो वह आजीवन अयोग्य होगा.

बता दें कि एक दिन पहले ही नवाज शरीफ ने किया था कि कुख्यात अदियाला जेल को उनके लिए तैयार कर लिया गया है. उन्होंने आरोप भी लगाया था कि उनके परिवार के विदेश में व्यापारिक सौदों की जांच के लिए गठित तीन सदस्यीय संयुक्त जांच टीम (जेआईटी) उनकी धुर राजनीतिक विरोधी हैं.

बता दें कि इसी साल पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि सविंधान के अनुच्छेद 62 और 63 के तहत अयोग्य करार व्यक्ति किसी भी तरह की राजनैतिक पार्टी का अध्यक्ष नहीं रह सकता है. पाकिस्तान के अखबार डॉन के मुताबिक, 5 जजों की बेंच ने सर्वसम्मति से यह आदेश दिया.

इससे पहले पनामा पेपर लीक मामले में पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने शरीफ को पीएम पद के लिए अयोग्य करार दे दिया था. उन्हें अनुच्छेद 62 के तहत अपनी सैलरी को असेट के तौर पर नहीं घोषित करने के आरोप में दोषी पाया गया था.