रूस ने अपनी पांचवी पीढ़ी के लडा़कू विमान AK FA का नाम बदलकर Su-57 कर दिया है. रूस के एयरोस्पेस कमांडर जनरल विक्टर बोंदारेव ने इसकी आधिकारिक घोषणा की है. उन्होंने एक इंटरव्यू में बताया कि यह बिल्कुल वैसा ही है जैसे एक बच्चे के पैदा होने के बाद उसका नामकरण किया जाता है. ठीक वैसे ही अब AK FA आधिकारिक रूप से Su-57 के नाम से जाना चाहिए.

Su-57 एक सिंगल सीटर दोहरे इंजन का लड़ाकू विमान है. यह इस प्रकार खास तरीके से तैयार किया गया है कि इसमें मल्टीरोल एयर सुपीरियोरिटी लगा है. इसमें एडवांस एविएशन सिस्टम लगा हुआ है जो राडार की पकड़ में भी मुश्किल से आता है.

सबसे पहले यह 2010 में बनाया गया. वैमानिकी विशेषज्ञों और ’कूपल’ कम्पनी के विशेषज्ञ-दल के अनुसार रूस के पाँचवी पीढ़ी के लड़ाकू विमान में लगा यह इंजन एसयू-27, एसयू-30 और इस सिरीज के दूसरे मॉडलों में लगे इंजनों से मिलता-जुलता है, हालाँकि यह एकदम दूसरा ही नई क़िस्म का इंजन है.

यह नया इंजन साल-डेढ़ साल में पूरी तरह से बनकर तैयार हो जाएगा और 2020 तक उसे पाँचवी पीढ़ी के लड़ाकू विमान में लगा दिया जाएगा.