नई दिल्‍ली: दिल्‍ली के चीफ सेक्रेटरी अंशु प्रकाश ने सीएम अरविंद केजरीवाल और उनके विधायकों पर संगीन आरोप लगाया है. अंशु प्रकाश का आरोप है कि केजरीवाल के घर पर उनके साथ बदसलूकी की गई और उनका फिजिकल असॉल्‍ट हुआ. दरअसल, सीएस अंशु प्रकाश केजरीवाल के ऐड को लेकर पिछले तीन साल से चल रहे खींचतान के मामले में म‍िलने गए थे. बैठक के दौरान केजरीवाल के विधायक अंशु प्रकाश के साथ बदतमीजी करने लगे और उनके साथ धक्‍का-मुक्‍की करने लगे. Also Read - अरविंद केजरीवाल की गैर भाजपा दलों से अपील- राज्यसभा में कृषि विधेयकों के खिलाफ करें वोट

Also Read - No Parking No Car: दिल्ली मे कार लेने से पहले दिखाने होंगे पार्किंग के सबूत वरना नई कार के लिए करना पड़ेगा 15 साल का इंतजार

सीएस अंशु प्रकाश का आरोप है कि यह पूरी घटना सीएम केजरीवाल के सामने होती रही, लेकिन सीएम ने उन्‍हें नहीं रोका. अंशु प्रकाश ने यह भी आरोप लगाया कि विधायकों ने केजरीवाल के इशारे पर ही उनके साथ ऐसा किया. दरअसल, यह मामला सोमवार रात का है. Also Read - School Reopening Latest Update: दिल्ली में 5 अक्टूबर तक नहीं खुलेंगे स्कूल, सरकार ने अपने जारी आदेश कही ये बात

केजरीवाल विधायकों की बदतमीजी और धक्‍का-मुक्‍की का शिकार बने अंशु प्रकाश ने इसकी शिकायत LG को की और इस घटना में शामिल विधायकों व केजरीवाल के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की मांग की.

इस घटना पर तिखी प्रतिक्रिया देते हुए दिल्‍ली प्रदेश अध्‍यक्ष अजय माकन ने ट्व‍िटर पर लिखा कि केजरीवाल के सामने हुई इस गुंडागर्दी के लिए उन्‍हें माफी मांगनी चाहिए. आम आदमी पार्टी विफल हो रही है. सीएम के सामने ही विधायकों द्वारा चीफ सेक्रेटरी को पीटा जाना, उनकी एक और कमी को दर्शाता है. अजय माकन ने लिखा है कि इसके जरिये दरअसल वह लोगों का ध्‍यान सरकार की नाकामियों से हटाना चाहते हैं. AAP को गवर्नेंस के बारे में नहीं पता और वह बुरी तरह विफल हो रही है.

‘आप’ पार्टी की सफाई

वहीं मामले को बढ़ता देख आप पार्टी की ओर से भी बयान जारी किया गया है. पार्टी की ओर से कहा गया है कि, मीटिंग के दौरान दिल्ली मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से सवाल किए जाने पर उन्होंने बदतमीजी की थी. आप की ओर से आरोप लगाया गया कि, अंशु प्रकाश ने बैठक में कहा कि वे विधायकों के किसी भी सवाल का उत्तर नहीं देंगे, क्योंकि वे सिर्फ उपराज्यपाल के प्रति जवाबदेह हैं. उन्होंने विधायकों के साथ गलत भाषा का उपयोग किया और फिर सीएम आवास से चले गए. अब वे बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं.