नई दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली में सीलिंग पर मंगलवार को बीजेपी और AAP नेता आमने-सामने आ गए. बीजेपी का प्रतिनिधिमंडल दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल से मिलने उनके घर पहुंचा. यहां पर दोनों दलों के बीच तनातनी की स्थिति बन गई. इस मुलाकात के दौरान आप विधायक भी मौजूद थे जो पहले ही वहां पहुंच गए थे. 

पहले ही दिन दिखे दिल्ली के आप सांसदों के तेवर, राष्ट्रपति के अभिभाषण का किया बहिष्कार

पहले ही दिन दिखे दिल्ली के आप सांसदों के तेवर, राष्ट्रपति के अभिभाषण का किया बहिष्कार

Also Read - West Bengal Polls 2021: पश्चिम बंगाल में बसे बिहार के लोग तेजस्वी की अपील करेंगे अनसुना, विकास के लिए देंगे वोट : मनोज तिवारी

Also Read - इंजीनियरिंग की, मिस इंडिया दिल्ली बनीं, अब पॉलिटिक्स करेंगी 21 साल की ये मॉडल, अरविंद केजरीवाल की...

दिल्ली बीजेपी के वरिष्ठ नेता विजेंद्र गुप्ता ने बताया कि हम सीएम से मिलने गए थे लेकिन हमारे साथ धक्कामुक्की की गई, हमारे साथ बुरा बर्ताव हुआ. उन्होंने दावा किया कि गुंडों को बुलाकर हमारे साथ धक्कामुक्की की गई. उन्होंने ये भी कहा कि आप विधायकों ने अपशब्द भी कहे. Also Read - अरविंद केजरीवाल ने कहा- किसानों के लिए डेथ वारंट हैं कृषि कानून, लाल किले पर बीजेपी ने कराई थी हिंसा

वहीं, आप का कहना है कि बीजेपी नेताओं ने पहले ही मीडिया को वहां बुला लिया था. बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी सहित 4 सांसद मुलाकात के लिए आए थे. बीजेपी नेताओं ने सिविल लाइन्स पुलिस स्टेशन में आम आदमी पार्टी नेताओं द्वारा की गई अभद्रता के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई. दिल्ली पुलिस विजेंद्र गुप्ता और गोल्डी शर्मा को अरुणा आसफ अली हॉस्पिटल लेकर गई.

FIR

सुप्रीम कोर्ट जाएगी AAP

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि उनकी सरकार सीलिंग अभियान पर अस्थायी प्रतिबंध की मांग करते हुए उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाएगी. दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार एक या दो दिन में सीलिंग को रुकवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट जाएगी. ऐसा बताया जा रहा है कि दिल्ली सरकार ने एमसीडी को सर्वे रिपोर्ट भेजने के लिए 8 रिमाइंडर्स दिए लेकिन किसी पर भी काम नहीं किया गया. केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि मैं कई बाजारों में जाकर व्यापारियों से खुद मिलूंगा.

मीडिया के सामने केजरीवाल ने कहा कि जहां-जहां पर सीलिंग हुई है आज मैं वहां जाऊंगा. मैं व्यापारियों से सीधा संपर्क करके उनकी समस्याओं को सुनूंगा. बीजेपी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि वाले बार-बार 351 सड़कों वाला ही मुद्दा उठा रहे हैं. मैं ये कहना चाहता हूं कि 351 सड़कों पर एक भी दुकान सील नहीं हो रही हैं. हम इन सड़कों का समाधान निकालने का प्रयास कर रहे हैं.

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा है कि अगर केंद्र सरकार और उप राज्यपाल चाहते तो दिल्ली में एक भी दुकान सील नहीं हुई होती.