नई दिल्ली| कार कंपनी रेनो की एसयूवी डस्टर क्रैश टेस्ट में फेल हो गई है. डस्टर का बिना एयरबैग वाला बेस वेरिएंट सुरक्षा समूह ग्लोबल एनसीएपी के क्रैश टेस्ट में खरा नहीं उतर पाया. क्रैश टेस्ट में इस वेरिएंट को जीरो स्टार मिला है. इतना ही नहीं, एयरबैग के साथ आने वाले वेरिएंट को क्रैश टेस्ट में 3 स्टार्स दिए गए हैं. रिपोर्ट में डस्टर के एयरबैग को स्टैंडर्ड के हिसाब से बेकार पाया गया है. Also Read - रेनॉ इंडिया ने पेश की एडवान्‍स डस्टर, कीमत 8 लाख रुपए से शुरू

क्रैश टेस्ट के नतीजों से पता चलता है कि एयरबैग नहीं होने की वजह से एक्सीडेंट होने पर ड्राइवर को लगने वाली चोट बहुत गंभीर हो सकती है. वहीं पीछे की सीट पर बच्चों की सुरक्षा की दृष्टि से डस्टर को 2 स्टार दिए गए हैं. एनसीएपी संस्था का कहना कि डस्टर में जिस साइज का एयरबैग दिया गया है वो गाड़ी के लिहाज से साइज में छोटा है क्योंकि हाइवे पर ये गाड़ियां 100 किलोमीटर से भी ज्यादा रफ्तार से चलती हैं और उसी लिहाज से इसमें बेस्ट सेफ्टी फीचर भी होने चाहिए. Also Read - एक अप्रैल से महंगे हो जाएंगे टाटा, महिंद्रा समेत कई कंपनियों के वाहन

ग्लोबल एनसीएपी के महासचिव डेविड वार्ड ने कहा, यह काफी चिंता की बात है कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा सप्ताह के दौरान हमें भारत में एक और शून्य स्टार वाली कार देखने को मिली है. ग्लोबल एनसीएपी ने पाया कि जो एयरबैग डस्टर में दिया गया है, क्रैश टेस्ट में वह ड्राइवर के सिर तक नहीं पहुंच पाता जिस वजह से  ड्राइवर के सिर में चोट लगने की आशंका ज्यादा है. अमेरिका में चल रही डस्टर का एयरबैग बड़ा है व छाती के साथ-साथ सिर को भी ढ़कता है. Also Read - रेनो ने बेहतरीन फीचर्स के साथ कम बजट में पेश की नई क्विड, जानें कीमत...

रिपोर्ट में सामने आया कि दुर्घटना के वक्त स्टीयरिंग वील सिर से न टकराए, इसके लिए एयरबैग ठीक-ठाक आकार का होना जरूरी है. इससे पहले 2015 मे जब डस्टर का सेफ्टी टेस्ट लिया गया था तो इसे 4 स्टार मिले थे.