नई दिल्ली: जापानी वाहन कंपनी टोयोटा और सुजुकी ने अपनी भागीदारी का भारत में दायरा बढ़ाने की घोषणा की. इसके तहत टोयोटा किर्लोस्कर मोटर भारत में सुजुकी द्वारा विकसित माडलों को बना सकती, है जिन्हें वे अपने अपने ब्रांड नेटवर्क के जरिए बेचेंगी. यहां एक बयान में यह जानकारी दी गई.Also Read - बड़ी खुशखबरी: गाड़ियों की कानफोड़ू प्रेशर हॉर्न की जगह अब सुनाई देंगी तबला-हारमोनियम-बांसुरी की आवाजें

इसके अनुसार टोयोटा मोटर और सुजुकी मोटर कॉर्पोरेशन ने प्रौद्योगिकी विकास, वाहन विनिर्माण और बाजार विकास के क्षेत्र में नई संयुक्त परियोजनाओं पर विचार करने पर सहमति जताई है. टोयोटा और सुजुकी ने मार्च में भारतीय बाजार में एक दूसरे को हाइब्रिड और अन्य वाहनों की आपूर्ति का मूल समझौता मार्च में किया था. इसके अनुसार ये कंपनियां टोयोटा और डेंसो कॉर्पोरेशन द्वारा सुजुकी द्वारा बनाए जाने वाले एक कांपेक्ट पावरट्रेन के लिए तकनीकी सहायता देने पर भी चर्चा करेंगी. Also Read - Auto News: Bullet का जलवा बरकरार, दिसंबर में 37 फीसदी बढ़ी Royal Enfield की बिक्री

कंपनी की तरफ से जारी बयान में बताया गया है कि टोयोटा और डेन्सो कॉर्पोरेशन के तकनीकी सहयोग से सुजुकी एक नए अल्ट्रा-हाई-एफिसिएंसी पारवट्रेन बनाएगी. यह पेट्रोल और हाइब्रिड सेटअप, दोनों वेरिएंट में आएगी. बयान के मुताबिक, सुजुकी के चेयरमैन ओसामु सुजुकी ने इसे कंपनी का महत्वपूर्ण कदम बताया और कहा कि सुजुकी के मॉडल भारत से अफ्रीका और दूसरे मार्केट में एक्सपोर्ट किए जाएंगे और वहां टोयोटा और सुजुकी, दोनों के आउटलेट्स के माध्यम से बेचे जाएंगे. Also Read - दिल्‍ली के मेट्रो स्टेशनों में Rs.10 में मिलेगी 60 किमी तक घूमने के लिए ई-बाइक

टोयोटा के प्रेसिडेंट अकियो टोयोडा ने बताया कि सुजुकी भारत में एंट्री करने वाली पहली जापानी कंपनियों में से है जो भारतीय ऑटोमोटिव सोसायटी को आगे बढ़ा रही है. हम भारत में सुजुकी के साथ मिलकर मोबिलिटी को बेहतर बनाएंगे और “मेक इन इंडिया” के तहत ऐसे वाहन बनाएंगे जो दूसरे देशों में भी सराहे जाएंगे.

(इनपुट: पीटीआई)