नई दिल्‍ली: देश के बिहार राज्‍य में सोमवार को कोरोना वायरस के संक्रमण के 11 नए केस के साथ ही संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 700 के पार हो गया. ताज अपडेट्स के मुताबिक, बिहार में अब तक कोरोना संक्रमित के कुल मामलों की संख्‍या 707 हो गई है. जबकि इससे एक पहले बिहार में 696 मामले थे. वहीं, लॉकडॉउन के बीच हुई परेशानियों को लेकर विभिन्‍न राज्‍यों से बिहार पहुंच रहे प्रवासी श्रमिकों का दर्द छलक पड़ा. Also Read - आक्रामक स्वभाव के लिए मशहूर कगीसो रबाडा ने कहा- मैं जल्दी आपा नहीं खोता हूं

बिहार के प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) संजय कुमार नेे बताया क‍ि‍  बिहार में 11 और COVID19 पॉजिटिव मामले सामने आए, कुल मामलों की संख्या 707 हो गई है. Also Read - महाराष्ट्र में कोरोना वायरस से अब तक 3,000 की मौत, मामले 83,000 के करीब पहुंचे

बिहार के पूर्णिया के प्रवासी मजदूर ने बताया, दिल्ली में मैं वेल्डिंग का काम करता था. यहां खाने-पीने, नहाने-धोने सब चीजों की दिक्कत हो रही थी जिसकी वजह से हम लोग पैदल गांव जा रहे हैं. हमें सरकार द्वारा चलाई जा रही ट्रेनों के बारे में कोई सूचना नहीं है. Also Read - वैज्ञानिकों ने किया हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा का विश्लेषण, कोरोना मरीजों के इलाज में नहीं दिखा इस दवा का खास फायदा

हम 2 दिन से भूखे हैं… रास्ते में मर जाएंगे भूखे प्यासे
बिहार के पूणिया के प्रवासी मजदूर ने बताया कि दिल्ली से सारी मजदूरी घर भेज दी थी. हम 2 दिन से भूखे हैं. कोई रोजगार नहीं है, पैदल घर जा रहे हैं. सोचा जब यहां भी मरना है भूखे प्यासे, तो रस्ते में मर जाएंगे भूखे प्यासे. हमारे पास न मोबाइल है न पैसे हैं, कुछ नहीं है. किसी ट्रेन के बारे में कोई जानकारी नहीं है.

सरकार से कुछ नहीं मिला, फौजियों ने दिया 5 किलो चावल
श्रीनगर से एक प्रवासी मजदूर ने बताया, हम लोग भी कश्मीर में फंसे हुए हैं. सरकार से कोई मदद नहीं मिली है पर स्थानीय लोग मदद कर रहे हैं. दूसरों के घरों पर गए तो किसी ने चावल दिया तो किसी ने कुछ और. फौजियों की मदद से एक बार पांच किलो चावल मिला था बस.