पटना: बिहार के पटना पुलिस लाइन से बिना किसी अनुमति के 150 पुलिसकर्मी गायब पाए गए हैं. इस मामले का पता तब चला जब पटना क्षेत्र के पुलिस उपमहानिरीक्षक (डीआईजी) राजेश कुमार ने पुलिस लाइन की आंतरिक जांच की. पुलिस विभाग के अधिकारी ने गुरुवार को बताया कि गायब करीब 150 पुलसकर्मियों के ठिकाने के विषय में विभाग को एक साल या उससे कहीं अधिक समय से कोई जानकारी नहीं है. इन पुलिसकर्मियों ने न कोई छुट्टी का आवेदनपत्र ही विभाग को दिया है और न ही उनके तैनात या प्रतिनियुक्तिस्थल की कोई जानकारी विभाग के पास है. डीआईजी राजेश कुमार की जांच में यह पता चला है.

राजेश कुमार ने गुरुवार को बताया कि पटना में पुलिसकर्मियों की प्रतिनियुक्ति तथा उसे बेहतर बनाने के उद्देश्य से पुलिसकर्मियों की जांच की गई, तब यह मामला सामने आया. उन्होंने बताया कि जांच के बाद दो पुलिसकर्मियों को तत्काल ही प्रभाव से निलंबित कर दिया गया. उन्होंने बताया कि कई महीने से अनुपस्थित रहने वाले पुलिसकर्मियों के उनके अनुपस्थित रहने को लेकर स्पष्टीकरण भी पूछा गया है.

इधर, पुलिस मुख्यालय भी इस मामले के प्रकाश में आने के बाद ऐसे पुलिसकर्मियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने के संकेत दिए हैं. राज्य के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी कहते हैं कि इन पुलिसकर्मियों के घर पर कानूनी नोटिस भेजी जाएगी. यदि उसके बाद भी ये उपस्थित नहीं होते हैं तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

विभागीय अधिकारियों का कहना है कि विभाग को अभी ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं मिली है, लेकिन यदि ऐसा है तो बहुत जल्द ही इन पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई की जाएगी. हालांकि इस मामले के प्रकाश में आने के बाद इस विषय पर विपक्ष भी निशाना साध रही है.