पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के काफिले पर शुक्रवार को पथराव करने के मामले में 19 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. यह हमला उस वक्त हुआ था जब वह वह अपनी विकास समीक्षा यात्रा के दौरान एक गांव जा रहे थे. इसमें मुख्यमंत्री को कोई नुकसान नहीं पहुंचा. तत्काल इस बात का पता नहीं लगाया जा सका था कि पथराव करने वाले कौन थे और उन्होंने ऐसा क्यों किया. Also Read - बिहार के मुख्यमंत्री को जान मारने की धमकी, 25 लाख रुपये का रखा इनाम

पथराव के बावजूद काफिला आगे बढ़ा. गांव पहुंचकर मुख्यमंत्री ने 272 करोड़ रुपये की 168 योजनाओं का उद्घाटन किया. इसके बाद उन्होंने जनसभा को संबोधित किया. Also Read - Covid-19: प्रशांत किशोर ने शेयर किया लॉकअप में बंद मजदूरों का वीडियो, मांगा नीतीश का इस्तीफा

यह भी पढ़ें: बिहार में चाय बनी मौत का कारण, गई तीन लोगों की जान Also Read - बिहार के बाहर फंसे लोगों को दी जाएगी मदद, 100 करोड़ रुपये जारी: नीतीश कुमार

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘मेरा उद्देश्य राज्य की राजधानी से सरकार चलाना नहीं है बल्कि साथ ही जमीनी हकीकत और विकास योजनाओं की प्रगति की समीक्षा भी है ताकि सड़क, स्वच्छ जल और बिजली जैसी बुनियादी सुविधाएं राज्य के हर गांव, इलाके तक पहुंचें.’’

मीडिया में चल रही कुछ खबरों के मुताबिक नंदन गांव के दलित इलाके के रहने वाले कुछ लोगों ने पथराव किया. वे चाहते थे कि कुमार उनके घरों का दौरा करें और खुद देखें कि उनके घर सुविधाओं की कितनी कमी है.