पटना. एक तरफ जहां देश के कई हिस्सों में मानसून के आने में देरी को लेकर चिंताएं जाहिर की जा रही हैं, वहीं बिहार में वर्षा और इस दौरान आकाशीय बिजली का कहर बरप रहा है. बुधवार को भी बिहार के विभिन्न जिलों में तेज बारिश हुई. पिछले 24 घंटे के दौरान हुई बारिश के बीच आकाशीय बिजली गिरने से करीब 30 लोगों की मौत हो गई. पिछले एक हफ्ते में वज्रपात से लोगों की मौत होने का यह दूसरा बड़ा मामला है. इससे पहले 21 जून को बिजली गिरने से 12 लोगों की मौत हो गई थी. बिहार राज्य आपदा प्रबंधन विभाग के एक अधिकारी ने गुरुवार को बताया कि राज्य के कई हिस्सों में आकाशीय बिजली की चपेट में आने से 30 लोगों की मौत हो गई है, जबकि कई अन्य लोग घायल हो गए हैं.Also Read - Kerala Rain Updates: केरल में भारी बारिश से छह लोगों की मौत, एक दर्जन लोग लापता; बचाव अभियान में उतरीं तीनों सेनाएं

विभाग के मुताबिक, वज्रपात से सबसे अधिक भागलपुर में छह लोगों की मौत हुई है, जबकि बेगूसराय में चार लोग इसकी चपेट में आ गए. इसके अलावा सहरसा, पूर्णिया, अररिया, जमुई, दरभंगा, मधेपुरा, खगड़िया, कटिहार, मधुबनी, पूर्वी चंपारण, शिवहर, नवादा और गया में भी आकाशीय बिजली की चपेट में आने से कई लोगों की मौत हुई है. Also Read - Heavy Rains in Kerala: 5 जिलों में रेड अलर्ट, लैंडस्‍लाइड में 12 लोग लापता, बाढ़ से एक की मौत, एयरफोर्स से मांगी मदद

इधर, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वज्रपात से हुई मौत पर गहरी शोक संवेदना प्रकट की है. मुख्यमंत्री ने मृतकों के आश्रितों को चार-चार लाख रुपये की अनुग्रह अनुदान देने की घोषणा की है. मुख्यमंत्री ने राहत आपदा कोष से तत्काल अनुदान राशि देने का निर्देश दिया है. उल्लेखनीय है कि 21 जून को भी बिहार के कई हिस्सों में आकाशीय बिजली गिरने से 12 से अधिक लोगों की मौत हुई थी. Also Read - Karnataka News: भारी बारिश के चलते घर ढहा, 7 लोगों की मौत, मुआवजे की घोषणा

(इनपुट – एजेंसी)